Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2023 · 1 min read

🐼आपकों देखना🐻‍❄️

🐼आपकों देखना🐻‍❄️
________________

‘उजले हॉल में आपकी चंचल खोजी निगाहें
हमारे दिख जाने की आतुरता
मैसेज करते समय की अधीरता
पुनः आयु का तीव्र अन्वेषण
प्रत्युत्तर पढ़ते ही झट नयनों का तीव्र पुष्पण
चार चछुओ का समागम जनित
होंठों की लहरमयी तैरती मुस्कान
सज़ल नेत्रों का संयमित साक्षात्कार ’

चंद पलों में ही
इससे कहीं ज़्यादा ही महसूस किया हम लोगो ने…

1 Like · 2 Comments · 269 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सफ़ेद चमड़ी और सफेद कुर्ते से
सफ़ेद चमड़ी और सफेद कुर्ते से
Harminder Kaur
शहर बसते गए,,,
शहर बसते गए,,,
पूर्वार्थ
পৃথিবী
পৃথিবী
Otteri Selvakumar
"पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
■ सूफ़ियाना ग़ज़ल-
■ सूफ़ियाना ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
सरस्वती बंदना
सरस्वती बंदना
Basant Bhagawan Roy
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जमाना जीतने की ख्वाइश नहीं है मेरी!
जमाना जीतने की ख्वाइश नहीं है मेरी!
Vishal babu (vishu)
"ईख"
Dr. Kishan tandon kranti
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
Rj Anand Prajapati
आम का मौसम
आम का मौसम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
23/119.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/119.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
*कोपल निकलने से पहले*
*कोपल निकलने से पहले*
Poonam Matia
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गुरु अंगद देव
गुरु अंगद देव
कवि रमेशराज
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हम कोई भी कार्य करें
हम कोई भी कार्य करें
Swami Ganganiya
*सुबह उगा है जो सूरज, वह ढल जाता है शाम (गीत)*
*सुबह उगा है जो सूरज, वह ढल जाता है शाम (गीत)*
Ravi Prakash
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
Kishore Nigam
आदिपुरुष फ़िल्म
आदिपुरुष फ़िल्म
Dr Archana Gupta
आज की प्रस्तुति - भाग #1
आज की प्रस्तुति - भाग #1
Rajeev Dutta
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
Dr MusafiR BaithA
भीम षोडशी
भीम षोडशी
SHAILESH MOHAN
पीक चित्रकार
पीक चित्रकार
शांतिलाल सोनी
कालजई रचना
कालजई रचना
Shekhar Chandra Mitra
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
Shweta Soni
Loading...