Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2018 · 1 min read

?आओ मनाये मकरसंक्रांति बिंदास?

?आओ मनाये मकरसंक्रांति बिंदास?

चहु ओर फैली हर्षोलास
चलो मनाये सबमिल,,
मकरसंक्रांति का त्यौहार बिंदास,,,

बाल गोपाल दे पतंग को ढील,,
पापा दादा चुकाये पतंग चकरा डोरी का बील।

गुड़ और तिल मिलकर बनाये स्वाद जायकेदार,,
सब मिलकर गाना गाये मजेदार,,

पतंग आसमान की छुए ऊँचाई,,
कटी पतंगआवाज देआपस मे दोस्त भाई- भाई।

ह्रदय के सारे क्लेश भेद मिटायें,,
आओ सब मकरसंक्रांति मनाये।

मुंगफली की खुशबू गुड़ तिल की मिठास,,,
सबके दिल मे उमड़ती जीवन जीने की आस।

गायत्री सोनू जैन मन्दसौर

Language: Hindi
192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निरोगी काया
निरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अगर कुछ करना है,तो कर डालो ,वरना शुरू भी मत करना!
अगर कुछ करना है,तो कर डालो ,वरना शुरू भी मत करना!
पूर्वार्थ
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2928.*पूर्णिका*
2928.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
फिर एक समस्या
फिर एक समस्या
A🇨🇭maanush
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि की याद में लिखी गई एक कविता
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि की याद में लिखी गई एक कविता "ओमप्रकाश"
Dr. Narendra Valmiki
हम पर एहसान
हम पर एहसान
Dr fauzia Naseem shad
वीर सुरेन्द्र साय
वीर सुरेन्द्र साय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*....आज का दिन*
*....आज का दिन*
Naushaba Suriya
अलमस्त रश्मियां
अलमस्त रश्मियां
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
शीर्षक - चाय
शीर्षक - चाय
Neeraj Agarwal
😊
😊
*प्रणय प्रभात*
((((((  (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))
(((((( (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))
Rituraj shivem verma
"निर्णय आपका"
Dr. Kishan tandon kranti
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
Shweta Soni
2122 :1222 : 122: 12 :: एक बार जो पहना …..
2122 :1222 : 122: 12 :: एक बार जो पहना …..
sushil yadav
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वक्त  क्या  बिगड़ा तो लोग बुराई में जा लगे।
वक्त क्या बिगड़ा तो लोग बुराई में जा लगे।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
स्याही की
स्याही की
Atul "Krishn"
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पढ़ाई
पढ़ाई
Kanchan Alok Malu
दिलबर दिलबर
दिलबर दिलबर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ
माँ
Sidhartha Mishra
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
Harminder Kaur
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक समय बेकार पड़ा था
एक समय बेकार पड़ा था
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*कागभुशुंडी जी नमन, काग-रूप विद्वान (कुछ दोहे)*
*कागभुशुंडी जी नमन, काग-रूप विद्वान (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
Loading...