Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 1 min read

🍁मंच🍁

🍁मंच🍁

जीवन हर किसी का
सुख-दुख का मंच है ।
कलाकार के लिये भाग्य
नौसिखीये के लिये दंश है ।।
🍁🍁🍁🍁🍁🍁
उबास है मन में किसी के
भीड़ का हिस्सा बन जाता है ।
चञ्चल, वाक पट्टू हेतु
जीवन का पहला अंश है ।।
🍁🍁🍁🍁🍁🍁
प्रदर्शन जब करना है
पहले स्वयं सांचे पर ढलो ।
जो पात्र मिले या चुनो
रग-रग में उसे मलो ।।
🍁🍁🍁🍁🍁🍁
युद्ध भिड़े जब युवक
कलम के बिना भ्रंश है ।
जीवन हर किसी का
सुख-दु:ख का मंच है ।।
🍁🍁🍁🍁🍁🍁
थिरको , ताल पे
सिखाओ अपने करतब से ।
हर श्रोता,दर्शक मति पर
आपका पात्र रचे-बसे
🍁🍁🍁🍁🍁🍁
चाहे जैसा हो जीवन प्रत्यक्ष
प्रतिस्पर्धा ही केवल कंश है।
जीवन हर किसी का
सुख-दुख का मंच है।।
🍁🍁🍁🍁🍁🍁
थको,रुको फिर बढ़ो
निरन्तरता जीवन में बनी रहे ।
सुनो न गैर-मति की
किन्तु आत्म ललकता बची रहे
🍁🍁🍁🍁🍁🍁
जियो अपनी अलग ठाठ से
वही हजारों में एक हंस है ।
जीवन हर किसी का
सुख-दुख का मंच है।

🔥सुरेश अजगल्ले “इन्द्र”🔥

Language: Hindi
1 Like · 206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
Rj Anand Prajapati
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
क्या रखा है???
क्या रखा है???
Sûrëkhâ Rãthí
जगदाधार सत्य
जगदाधार सत्य
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मोहब्बत कि बाते
मोहब्बत कि बाते
Rituraj shivem verma
मैंने एक दिन खुद से सवाल किया —
मैंने एक दिन खुद से सवाल किया —
SURYA PRAKASH SHARMA
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज की तारीख़ में
आज की तारीख़ में
*Author प्रणय प्रभात*
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
2759. *पूर्णिका*
2759. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
surenderpal vaidya
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
****जानकी****
****जानकी****
Kavita Chouhan
एक ही राम
एक ही राम
Satish Srijan
मै तो हूं मद मस्त मौला
मै तो हूं मद मस्त मौला
नेताम आर सी
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
पूर्वार्थ
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
क्या कर लेगा कोई तुम्हारा....
क्या कर लेगा कोई तुम्हारा....
Suryakant Dwivedi
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत शत नमन*
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत शत नमन*
Ravi Prakash
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
rekha mohan
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
प्रेमदास वसु सुरेखा
//एहसास//
//एहसास//
AVINASH (Avi...) MEHRA
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
धरती करें पुकार
धरती करें पुकार
नूरफातिमा खातून नूरी
खूबसूरत, वो अहसास है,
खूबसूरत, वो अहसास है,
Dhriti Mishra
गुरु चरण
गुरु चरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐अज्ञात के प्रति-135💐
💐अज्ञात के प्रति-135💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"अनाज"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...