Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻

🌻 गुरु चरणों की धूल 🌻
सत्यम शिवम सुंदरम जय जय भोले नाथ जी
वतर्ज- तुझे दिल में बसा तो लूं पर प्यार जरुरी है……………..……..

🌻 स्थाई🌻

तुझे पलों बिठा तो लूं पर मन्हार मंजूरी है।
तेरे सपने सजा तो लूं साकार मंजूरी है।।
🌻 अं•-१🌻
सार ही भोला सार ही सत्यम,सार खुदाई सार ही हे बम।
राहें सहीं हो भायें भुवन हो,अग्र अगोचर सिद्धि सदन हो।
🌻 उड़ान🌻
आत्म शक्ति जगा तो लूं स्वीकार मंजूरी है।।
तुझे पलों बिठा तो लूं पर मन्हार मंजूरी है।।२
🌻 अं•-२🌻
शिव ने है पाई त्रिनेत्र निगाह है,राम दम पे विश पीना है।
नित्य शिव हे राम भजन है,सत्य सनातन धर्म कर्म है।
🌻 उड़ान🌻
चर्णों रज लगा तो लूं सुधार मंजूरी है।
तुझे पलों बिठा तो लूं पर मन्हार मंजूरी है।।
तेरे सपने सजा………..
🌻 अं•-३🌻
शिवशक्ति को सब जग जानें,जो जिस भाव से शिव को मानें।
इच्छित वर वो पाता है, जग दाता है जो नाता है।।
🌻 उड़ान 🌻
महादेव मना तो लूं शिवद्वार मंजूरी है।
तुझे पलों बिठा तो लूं पर मन्हार मंजूरी है।।
तेरे सपने…………….
🌻 अं•-४🌻
रॅंगी राही ज्ञान गुण सागर,कनक झनक प्रज्ञा गागर।
न रुकी वक्त की गर्दिश, अमर्नाथ हैं दो घाघर।।
🌻 उड़ान 🌻
साधु का संग पा तो लूं उद्धार मंजूरी है।।
तुझे पलों बिठा तो लूं पर मन्हार मंजूरी है।।
तेरे सपने सजा तो लूं साकार मंजूरी है।।

✍️जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
झाॅंसी बुन्देलखण्ड उ•प्र•

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dr Arun Kumar shastri एक अबोध बालक
Dr Arun Kumar shastri एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#आज_का_दोहा
#आज_का_दोहा
*प्रणय प्रभात*
बादलों की उदासी
बादलों की उदासी
Shweta Soni
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
"वादा" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
विजय द्वार (कविता)
विजय द्वार (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
समाप्त हो गई परीक्षा
समाप्त हो गई परीक्षा
Vansh Agarwal
अपराध बोध (लघुकथा)
अपराध बोध (लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
*रामचरितमानस में अयोध्या कांड के तीन संस्कृत श्लोकों की दोहा
Ravi Prakash
हाँ ये सच है
हाँ ये सच है
Dr. Man Mohan Krishna
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
याद में
याद में
sushil sarna
शहीद की अंतिम यात्रा
शहीद की अंतिम यात्रा
Nishant Kumar Mishra
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
सत्य कुमार प्रेमी
"रुख़सत"
Dr. Kishan tandon kranti
"" *इबादत ए पत्थर* ""
सुनीलानंद महंत
इस पेट की ज़रूरते
इस पेट की ज़रूरते
Dr fauzia Naseem shad
मैं जिस तरह रहता हूं क्या वो भी रह लेगा
मैं जिस तरह रहता हूं क्या वो भी रह लेगा
Keshav kishor Kumar
* धन्य अयोध्याधाम है *
* धन्य अयोध्याधाम है *
surenderpal vaidya
पेड़ - बाल कविता
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
पूर्वार्थ
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ଅହଙ୍କାର
ଅହଙ୍କାର
Bidyadhar Mantry
अरे योगी तूने क्या किया ?
अरे योगी तूने क्या किया ?
Mukta Rashmi
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
Rj Anand Prajapati
गुजरे हुए लम्हात को का याद किजिए
गुजरे हुए लम्हात को का याद किजिए
VINOD CHAUHAN
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
माटी की सोंधी महक (नील पदम् के दोहे)
माटी की सोंधी महक (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...