Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Nov 2022 · 1 min read

🌻🌻अन्यानां जनानां हितं🌻🌻

गृहस्थआश्रमे स्वार्थस्य त्याग: कृत्वा अन्यानां जनानां हितं करणेन परस्परं प्रेम बर्द्धिष्यते।मोहस्य बन्धनं संसारे बन्धनं करोति।प्रेमस्य बन्धनं मुक्त: करोति।
अधुना संसारे अन्यानां जनानां दुःखस्य दानं न करणं पुण्य:।

©®अभिषेक: पाराशरः

Language: Sanskrit
Tag: लेख
141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा "वास्तविकता रूह को सुकून देती है"
Rahul Singh
पहले जो मेरा यार था वो अब नहीं रहा।
पहले जो मेरा यार था वो अब नहीं रहा।
सत्य कुमार प्रेमी
खुशियों का बीमा
खुशियों का बीमा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*राम हिंद की गौरव गरिमा, चिर वैभव के गान हैं (हिंदी गजल)*
*राम हिंद की गौरव गरिमा, चिर वैभव के गान हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*कमबख़्त इश्क़*
*कमबख़्त इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
$ग़ज़ल
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
Harinarayan Tanha
■ अखंड भारत की दिशा में प्रयास का पहला चरण।
■ अखंड भारत की दिशा में प्रयास का पहला चरण।
*प्रणय प्रभात*
भला दिखता मनुष्य
भला दिखता मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
सुस्ता लीजिये थोड़ा
सुस्ता लीजिये थोड़ा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
महाभारत एक अलग पहलू
महाभारत एक अलग पहलू
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मैने यह कब कहा की मेरी ही सुन।
मैने यह कब कहा की मेरी ही सुन।
Ashwini sharma
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
अतीत
अतीत
Bodhisatva kastooriya
3642.💐 *पूर्णिका* 💐
3642.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
शीर्षक - 'शिक्षा : गुणात्मक सुधार और पुनर्मूल्यांकन की महत्ती आवश्यकता'
शीर्षक - 'शिक्षा : गुणात्मक सुधार और पुनर्मूल्यांकन की महत्ती आवश्यकता'
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
होने नहीं दूंगा साथी
होने नहीं दूंगा साथी
gurudeenverma198
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
कुछ दुआ की जाए।
कुछ दुआ की जाए।
Taj Mohammad
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
चंचल मन
चंचल मन
उमेश बैरवा
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी में हर मोड़ मुहब्बत ही मुहब्बत है,
ज़िंदगी में हर मोड़ मुहब्बत ही मुहब्बत है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पिछले पन्ने 10
पिछले पन्ने 10
Paras Nath Jha
अरबपतियों की सूची बेलगाम
अरबपतियों की सूची बेलगाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गहरा है रिश्ता
गहरा है रिश्ता
Surinder blackpen
Loading...