Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Dec 2022 · 1 min read

🌺🦋सजल हैं नयन, दिल भर गया है🦋🌺

##मणिकर्णिका##
##तैयारी शुरू कर दो##
##हे बौनी!घूमने जा##
##गंगा के मैदानों में घूम रही है##
##बालू के कणों को नाप रही होगी##
##कौन सी पवन चल रही थी##
##पछुआ##

सजल हैं नयन, दिल भर गया है,
तुम्हारी याद में वक़्त ठहर गया है,
सजल हैं नयन,दिल भर गया है,
तुम्हारी याद में वक़्त ठहर गया है,
सुलझा न सके किसी पहलू को,
दीवार न बनी थी कभी कोई,
उठी पीर को तुम सहला न सके,
कहें किससे जीवन पानी सा बह गया है,
सजल हैं नयन, दिल भर गया है,
तुम्हारी याद में वक़्त ठहर गया है।।1।।
आने की कहकर वो कभी न आए,
अपनी ही थी ख़ता, मुझे ही समझाए,
मैंने देखा तुम्हें पत्ती की ओट से,
तुम जो छिपे हो,अब जमाना भी बदल गया है,
सजल हैं नयन, दिल भर गया है,
तुम्हारी याद में वक़्त ठहर गया है।।2।।
मैं तन्हा हूँ, बहुत तन्हा हूँ,
मैं बरबाद नहीं हूँ, तुम बरबाद न होगे,
कोई मिसाल तो देना मेरे इश्क की ख़ातिर,
वो इरादों से बनाया मकाँ,अब ढह गया है,
सजल हैं नयन, दिल भर गया है,
तुम्हारी याद में वक़्त ठहर गया है।।3।।
वक्त बे-वक्त तुम याद आते हो,
छोड़ो मुझे अब क्यों मुस्कुराते हो?
कोई तराना छेड़ो मुझे सुकून दे दो,
तूने जो चोट दी,उसे ‘अभिषेक’ सह गया है,
सजल हैं नयन, दिल भर गया है,
तुम्हारी याद में वक़्त ठहर गया है।।4।।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
Tag: गीत
35 Views
You may also like:
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चंदा की डोली उठी
चंदा की डोली उठी
Shekhar Chandra Mitra
वादा करके चले गए
वादा करके चले गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इश्क का तुमसे जब सिलसिला हो गया।
इश्क का तुमसे जब सिलसिला हो गया।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"यादों के अवशेष"
Dr. Kishan tandon kranti
रंगों  की  बरसात की होली
रंगों की बरसात की होली
Vijay kumar Pandey
“अखने त आहाँ मित्र बनलहूँ “
“अखने त आहाँ मित्र बनलहूँ “
DrLakshman Jha Parimal
धर्म
धर्म
पंकज कुमार कर्ण
"बच्चों की दुनिया"
Dr Meenu Poonia
अंधेरा मिटाना होगा
अंधेरा मिटाना होगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संगीत
संगीत
Surjeet Kumar
आज का मानव
आज का मानव
Shyam Sundar Subramanian
आपसी बैर मिटा रहे हैं क्या ?
आपसी बैर मिटा रहे हैं क्या ?
Buddha Prakash
■ समयोचित विचार बिंदु...
■ समयोचित विचार बिंदु...
*Author प्रणय प्रभात*
अंदर का मधुमास
अंदर का मधुमास
Satish Srijan
कतिपय दोहे...
कतिपय दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐प्रेम कौतुक-308💐
💐प्रेम कौतुक-308💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Khuch wakt ke bad , log tumhe padhna shuru krenge.
Khuch wakt ke bad , log tumhe padhna shuru krenge.
Sakshi Tripathi
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
Surinder blackpen
मेरी सफर शायरी
मेरी सफर शायरी
Ankit Halke jha
हमने सच को क्यों हवा दे दी
हमने सच को क्यों हवा दे दी
Dr Rajiv
हम है वतन के।
हम है वतन के।
Taj Mohammad
कितना आंखों ने
कितना आंखों ने
Dr fauzia Naseem shad
*अर्ध समाजवादीकरण : एक नमूना (हास्य व्यंग्य)*
*अर्ध समाजवादीकरण : एक नमूना (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
फिर से ऐसी कोई भूल मैं
फिर से ऐसी कोई भूल मैं
gurudeenverma198
✍️हम जिस्म के सूखे एहसासो से बंझर है
✍️हम जिस्म के सूखे एहसासो से बंझर है
'अशांत' शेखर
एक दिया ऐसा हूँ मैं...
एक दिया ऐसा हूँ मैं...
मनोज कर्ण
खंड 7
खंड 7
Rambali Mishra
आज हिंदी रो रही है!
आज हिंदी रो रही है!
Anamika Singh
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...