Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2017 · 1 min read

??गज़ल??

मापनी
1222 1222

बड़ी मुश्किल से पाला था
वो मेरा था, निराला था

उसे कण-कण बचाकर के
फ़क़त मैंने संभाला था

बहुत महफूज़ रक्खा था
वही अमृत का प्याला था

ज़माने की हक़ीक़त में
कहीं थोड़ा सा काला था

वो लोहा था, तपा कर ही
खरा सोना निकाला था

जिसे वो बाज ले भागा
मिरे मुँह का निवाला था

– शिव मोहन यादव

199 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
Suryakant Dwivedi
किसी बच्चे की हँसी देखकर
किसी बच्चे की हँसी देखकर
ruby kumari
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
💐अज्ञात के प्रति-100💐
💐अज्ञात के प्रति-100💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🥀*गुरु चरणों की धूलि*🥀
🥀*गुरु चरणों की धूलि*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*****हॄदय में राम*****
*****हॄदय में राम*****
Kavita Chouhan
फ़र्क़..
फ़र्क़..
Rekha Drolia
अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
आर.एस. 'प्रीतम'
तजो आलस तजो निद्रा, रखो मन भावमय चेतन।
तजो आलस तजो निद्रा, रखो मन भावमय चेतन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
I want to tell you something–
I want to tell you something–
पूर्वार्थ
माँ तेरे चरणों
माँ तेरे चरणों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ मुक्तक
■ मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
यह तो हम है जो कि, तारीफ तुम्हारी करते हैं
यह तो हम है जो कि, तारीफ तुम्हारी करते हैं
gurudeenverma198
बिछड़ कर तू भी जिंदा है
बिछड़ कर तू भी जिंदा है
डॉ. दीपक मेवाती
"समय से बड़ा जादूगर दूसरा कोई नहीं,
Tarun Singh Pawar
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
कवि दीपक बवेजा
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सुने जो दिल की कहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
मित्रता
मित्रता
जगदीश लववंशी
विभेद दें।
विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रिश्ते
रिश्ते
Shutisha Rajput
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
संघर्ष ज़िंदगी को आसान बनाते है
Bhupendra Rawat
फिसल गए खिलौने
फिसल गए खिलौने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
छठ पूजा
छठ पूजा
Satish Srijan
यादगार बनाएं
यादगार बनाएं
Dr fauzia Naseem shad
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर  वार ।
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर वार ।
sushil sarna
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
Sadhavi Sonarkar
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
2881.*पूर्णिका*
2881.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सब को प्रभु दो स्वस्थ तन ,सबको सुख का वास (कुंडलिया)
सब को प्रभु दो स्वस्थ तन ,सबको सुख का वास (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...