Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2023 · 1 min read

🌷🧑‍⚖️हिंदी इन माय इंट्रो🧑‍⚖️⚘️

🌷🧑‍⚖️हिंदी इन माय इंट्रो🧑‍⚖️⚘️
मेरा नाम अंकित हल्के झा मेरा एक छोटा सा परिवार है जिसमें हमारे पिताजी और उनकी अर्धांगिनी और मेरा छोटा भाई है मैंने अपनी दसवीं पास 2017 और 12वीं पास 2019 में ललितपुर से की है मैंने स्नातक की परीक्षा आरएमबी ललितपुर बीयू झांसी से बीएससी बायो से किया है मेरे पास कुछ सर्टिफिकेट भी है जो मैंने आईएसपीएन स्टोर पर मोटर का कोर्स पीएमकेवीवाई ललितपुर एंड दिल्ली ललितपुर एंड रोवर रेंजर ललितपुर और एनएसएस रघुवीर सिंह राजकीय महाविद्यालय किया है मैं एक परिश्रमी और इमानदार व्यक्ति हूं मुझे कुछ भी काम मिले तो मैं उस काम को रूचि पूर्वक करता हूं लेकिन कभी-कभी मेरे दिल में ख्याल आता है कि कुछ मीठा खाया जाए जिसमें मुझे दिक्कतें उठानी पड़ती हैं मैं अपने खाली समय में अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए अथवा संचार कौशल को बढ़ाने के लिए सब लोगों से बातचीत करता रहता हूं और मैं समय का सदुपयोग करता हूं मुझे नेतृत्व करना समूह बनाना इत्यादि पसंद है मेरा उद्देश्य सरकारी नौकरी बिजनेस करना सामाजिक सुधार करना है गरीबों की सेवा समाज सेवा सबसे बड़ा धर्म है थैंक्स guys

411 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
*पीयूष जिंदल: एक सामाजिक व्यक्तित्व*
*पीयूष जिंदल: एक सामाजिक व्यक्तित्व*
Ravi Prakash
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
कवियों की कैसे हो होली
कवियों की कैसे हो होली
महेश चन्द्र त्रिपाठी
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
स्वामी विवेकानंद ( कुंडलिया छंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
झूठ
झूठ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
कवि रमेशराज
मुझे भी
मुझे भी "याद" रखना,, जब लिखो "तारीफ " वफ़ा की.
Ranjeet kumar patre
होगा कौन वहाँ कल को
होगा कौन वहाँ कल को
gurudeenverma198
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ 2023/2024 👌
■ 2023/2024 👌
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
Anand Kumar
"सच्ची जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
Phool gufran
धूमिल होती पत्रकारिता
धूमिल होती पत्रकारिता
अरशद रसूल बदायूंनी
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
Er. Sanjay Shrivastava
अच्छी बात है
अच्छी बात है
Ashwani Kumar Jaiswal
जीभ
जीभ
विजय कुमार अग्रवाल
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वैमनस्य का अहसास
वैमनस्य का अहसास
Dr Parveen Thakur
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
पापी करता पाप से,
पापी करता पाप से,
sushil sarna
🌹हार कर भी जीत 🌹
🌹हार कर भी जीत 🌹
Dr Shweta sood
ऐ!मेरी बेटी
ऐ!मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
भोली बिटिया
भोली बिटिया
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Loading...