Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2022 · 1 min read

✍️हम बाहर हो गये

हर किसी को भीतर थोडी जगह देते रहे
और हम अपने ही आप से बाहर हो गये
……………………………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
17/09/2022

Language: Hindi
3 Likes · 7 Comments · 133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन में
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
🌸प्रकृति 🌸
🌸प्रकृति 🌸
Mahima shukla
कसौटी जिंदगी की
कसौटी जिंदगी की
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*लिख दी रामायण अनूठी वाल्मीकि जी ने (घनाक्षरी)*
*लिख दी रामायण अनूठी वाल्मीकि जी ने (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
खुदाया करम इन पे इतना ही करना।
खुदाया करम इन पे इतना ही करना।
सत्य कुमार प्रेमी
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दादी माॅ॑ बहुत याद आई
दादी माॅ॑ बहुत याद आई
VINOD CHAUHAN
" जब तक आप लोग पढोगे नहीं, तो जानोगे कैसे,
शेखर सिंह
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
Shweta Soni
मनवा मन की कब सुने,
मनवा मन की कब सुने,
sushil sarna
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
बच्चे
बच्चे
Kanchan Khanna
जिसने अपनी माँ को पूजा
जिसने अपनी माँ को पूजा
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बिखरने की सौ बातें होंगी,
बिखरने की सौ बातें होंगी,
Vishal babu (vishu)
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
*संतुष्ट मन*
*संतुष्ट मन*
Shashi kala vyas
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
कवि रमेशराज
"जोकर"
Dr. Kishan tandon kranti
योग इक्कीस जून को,
योग इक्कीस जून को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
व्यस्तता
व्यस्तता
Surya Barman
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"अभी" उम्र नहीं है
Rakesh Rastogi
बोलो राम राम
बोलो राम राम
नेताम आर सी
Loading...