Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2022 · 1 min read

✍️मैले है किरदार

उनके खुद के किरदार पे मैल चढ़ा है
वो मेरे शख़्सियत पर धूल उड़ा रहे है
……………………………………………………//
©✍️’अशांत’शेखर
17/09/2022

Language: Hindi
5 Likes · 6 Comments · 190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
...
...
*प्रणय प्रभात*
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
अनिल कुमार
Don't leave anything for later.
Don't leave anything for later.
पूर्वार्थ
परीक्षा
परीक्षा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
"UG की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*शास्त्री जीः एक आदर्श शिक्षक*
*शास्त्री जीः एक आदर्श शिक्षक*
Ravi Prakash
गज़ल बन कर किसी के दिल में उतर जाता हूं,
गज़ल बन कर किसी के दिल में उतर जाता हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बुढ़ापा
बुढ़ापा
Neeraj Agarwal
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
उपहास
उपहास
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
Gaurav Sony
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
"सपने"
Dr. Kishan tandon kranti
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
काश जन चेतना भरे कुलांचें
काश जन चेतना भरे कुलांचें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
Sanjay ' शून्य'
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
।।  अपनी ही कीमत।।
।। अपनी ही कीमत।।
Madhu Mundhra Mull
जिसका हम
जिसका हम
Dr fauzia Naseem shad
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
Ashwini Jha
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
कोहरा और कोहरा
कोहरा और कोहरा
Ghanshyam Poddar
2381.पूर्णिका
2381.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
gurudeenverma198
Loading...