Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Dec 2022 · 1 min read

✍️परीक्षा की सच्चाई✍️

कई करते मेहनत से पेपर, कई लेते हैं नकल आधार
कई करते हैं ताका झांकी, कई पूछें छुपके कई बार
कई करते मेहनत……..
1) कुछ करते हैं कठिन परिश्रम, उत्तर लिखें तेज रफ्तार
कुछ करते जमकर मक्कारी, प्रश्न पूछते कई – कई बार
कुछ लिखते ईमान सत्य से, त्यागे नहीं वो उच्च विचार
कई करते मेहनत…….
2) कुछ भरते हैं कई कॉपियाँ, अंतत: लिखते जाते हैं
कुछ छोड़े कॉपी को खाली, प्रश्न देख घबराते हैं
कुछ कहते हैं परमेश्वर से, कर थोड़ा हम पर उपकार
कई करते मेहनत………
3) कुछ हिंटों से जी भर लिखते, कुछ को हिंट ना आयें काम
कुछ लिखकर के थक जाते हैं, कुछ करते रहते आराम
कुछ पेपर पूरा कर जाते, कुछ पेपर करते बेकार
कई करते मेहनत ………
4) इन बेकार सी आदतों के, हैं स्कूल ही जिम्मेदार
बच्चे स्वाभिमान न खोते, ना होते इतने लाचार
भारत का भविष्य हैं बच्चे, दो इनको अच्छे संस्कार
कई करते मेहनत…………
निवेदन:- बच्चों को शिक्षा देने से पहले अच्छे संस्कार एवं उनको जीवन में शिक्षा की भूमिका समझायें। जिससे बच्चे परीक्षाओं में बच्चे अच्छे आयाम हासिल कर सकें।धन्यवाद।
लेखक:- खैमसिहं सैनी
M.A, M.Ed, B.Ed
Mob.No. 9266034599

Language: Hindi
2 Likes · 324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ नमी अपने
कुछ नमी अपने
Dr fauzia Naseem shad
नानी का घर (बाल कविता)
नानी का घर (बाल कविता)
Ravi Prakash
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
जनम-जनम के साथ
जनम-जनम के साथ
Shekhar Chandra Mitra
भाई
भाई
Kanchan verma
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
गोबरैला
गोबरैला
Satish Srijan
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
चंचल पंक्तियाँ
चंचल पंक्तियाँ
Saransh Singh 'Priyam'
खुद की तलाश
खुद की तलाश
Madhavi Srivastava
23/126.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/126.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोयल कूके
कोयल कूके
Vindhya Prakash Mishra
रविवार की छुट्टी
रविवार की छुट्टी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सुप्रभात..
सुप्रभात..
आर.एस. 'प्रीतम'
■
■ "मान न मान, मैं तेरा मेहमान" की लीक पर चलने का सीधा सा मतल
*Author प्रणय प्रभात*
फिर कब आएगी ...........
फिर कब आएगी ...........
SATPAL CHAUHAN
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
Dr MusafiR BaithA
"जाल"
Dr. Kishan tandon kranti
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
ruby kumari
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
Umender kumar
मंजिल तक पहुंचने
मंजिल तक पहुंचने
Dr.Rashmi Mishra
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
पूर्वार्थ
याद तुम्हारी......।
याद तुम्हारी......।
Awadhesh Kumar Singh
जब अपनी बात होती है,तब हम हमेशा सही होते हैं। गलत रहने के बा
जब अपनी बात होती है,तब हम हमेशा सही होते हैं। गलत रहने के बा
Paras Nath Jha
मॉडर्न किसान
मॉडर्न किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज
आज
Shyam Sundar Subramanian
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
मानसिकता का प्रभाव
मानसिकता का प्रभाव
Anil chobisa
Loading...