Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2022 · 1 min read

✍️दो पल का सुकून ✍️

आज दिल बड़ा बेचैन सा लग रहा है,
क्या लिखूँ , कैसे लिखूँ समझ नहीं आ रहा,
अजीब सा कौतूहल है दिमाग़ में,
ना जाने क्या उलझन है समझ नहीं आ रहा,
बड़ी थकी सी लग रही है ज़िंदगी,
शायद थोड़ा सुकून चाहिए,
बड़े खुशनसीब है वो लोग जिन्हें दो पल का सुकून मिल जाता है,
हम तो ऐसे है की हमसे मिला हुआ सुकून भी छिन जाता है,
काश कोई दर्द की कैद से मुक्त कर जाए,
काश कोई सारी उलझने दूर कर पाए,
चेहरे की मुस्कुराहट लौट आएगी मेरी,
बस वो दो पल का सुकून मिल जाए।

✍️वैष्णवी गुप्ता
कौशांबी

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 8 Comments · 155 Views
You may also like:
*हुई दूसरी बेटी (गीत)*
Ravi Prakash
बदलते मौसम
Dr Archana Gupta
अंतिमदर्शन
विनोद सिन्हा "सुदामा"
दिल बहलाएँ हम
Dr. Sunita Singh
विधाता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
✍️ओ कान्हा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कहानी *"ममता"* पार्ट-2 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
#है_तिरोहित_भोर_आखिर_और_कितनी_दूर_जाना??
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हसरतें थीं...
Dr. Meenakshi Sharma
दुनिया
Rashmi Sanjay
शराब सहारा
Anurag pandey
नायिका की सुंदरता की उपमाएं
Ram Krishan Rastogi
काश
Harshvardhan "आवारा"
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'कृषि' (हरिहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
बेटियाँ, कविता
Pakhi Jain
मेरे दिल की धड़कन से तुम्हारा ख़्याल...../लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
हमने की वफा।
Taj Mohammad
✍️मेरे अंतर्मन के गदर में..✍️
'अशांत' शेखर
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
डरता हूं
dks.lhp
सोन चिरैया
Shekhar Chandra Mitra
A pandemic 'Corona'
Buddha Prakash
*** वीरता
Prabhavari Jha
दिल से निकली बात
shabina. Naaz
Loading...