Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2022 · 1 min read

✍️दो पल का सुकून ✍️

आज दिल बड़ा बेचैन सा लग रहा है,
क्या लिखूँ , कैसे लिखूँ समझ नहीं आ रहा,
अजीब सा कौतूहल है दिमाग़ में,
ना जाने क्या उलझन है समझ नहीं आ रहा,
बड़ी थकी सी लग रही है ज़िंदगी,
शायद थोड़ा सुकून चाहिए,
बड़े खुशनसीब है वो लोग जिन्हें दो पल का सुकून मिल जाता है,
हम तो ऐसे है की हमसे मिला हुआ सुकून भी छिन जाता है,
काश कोई दर्द की कैद से मुक्त कर जाए,
काश कोई सारी उलझने दूर कर पाए,
चेहरे की मुस्कुराहट लौट आएगी मेरी,
बस वो दो पल का सुकून मिल जाए।

✍️वैष्णवी गुप्ता
कौशांबी

Language: Hindi
7 Likes · 8 Comments · 297 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नारी बिन नर अधूरा✍️
नारी बिन नर अधूरा✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
Rituraj shivem verma
एहसास
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
आज का रावण
आज का रावण
Sanjay ' शून्य'
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
Anand Kumar
कितने एहसास हैं
कितने एहसास हैं
Dr fauzia Naseem shad
आंखों में
आंखों में
Surinder blackpen
शेयर
शेयर
rekha mohan
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
Manisha Manjari
Yaade tumhari satane lagi h
Yaade tumhari satane lagi h
Kumar lalit
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
*बड़े नखरों से आना, शीघ्रता रहती है जाने की (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*बड़े नखरों से आना, शीघ्रता रहती है जाने की (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
चन्दा लिए हुए नहीं,
चन्दा लिए हुए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मज़दूरों का पलायन
मज़दूरों का पलायन
Shekhar Chandra Mitra
क्षितिज के उस पार
क्षितिज के उस पार
Suryakant Dwivedi
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
नेताम आर सी
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
एक बात तो,पक्की होती है मेरी,
एक बात तो,पक्की होती है मेरी,
Dr. Man Mohan Krishna
Don't Give Up..
Don't Give Up..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
कवि दीपक बवेजा
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
पागल दास जी महाराज
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
Trishika S Dhara
अपनी समझ और सूझबूझ से,
अपनी समझ और सूझबूझ से,
आचार्य वृन्दान्त
ज्ञान क्या है
ज्ञान क्या है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
Loading...