Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2022 · 1 min read

✍️दरबदर भटकते रहा..

जिस राह को मैं तलाश रहा था
उसने मुझे मुड़ने का इशारा किया..

और उन्ही रास्तों को ढूंढते हुए 
वो मुसाफिर दरबदर भटकते रहा..
……………………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
       04/10/2022

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अरमान
अरमान
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
shabina. Naaz
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
Ravi Prakash
💐💐दोहा निवेदन💐💐
💐💐दोहा निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
रंगीन हुए जा रहे हैं
रंगीन हुए जा रहे हैं
हिमांशु Kulshrestha
सपना
सपना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किताब का दर्द
किताब का दर्द
Dr. Man Mohan Krishna
नाम सुनाता
नाम सुनाता
Nitu Sah
यह तेरा चेहरा हसीन
यह तेरा चेहरा हसीन
gurudeenverma198
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
Rituraj shivem verma
मनुष्यता बनाम क्रोध
मनुष्यता बनाम क्रोध
Dr MusafiR BaithA
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
हम किसी के लिए कितना भी कुछ करले ना हमारे
Shankar N aanjna
💐प्रेम कौतुक-162💐
💐प्रेम कौतुक-162💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
ruby kumari
वक्त से पहले..
वक्त से पहले..
Harminder Kaur
बेरंग दुनिया में
बेरंग दुनिया में
पूर्वार्थ
खाक मुझको भी होना है
खाक मुझको भी होना है
VINOD CHAUHAN
हिंदी दिवस पर एक आलेख
हिंदी दिवस पर एक आलेख
कवि रमेशराज
हृदय कुंज  में अवतरित, हुई पिया की याद।
हृदय कुंज में अवतरित, हुई पिया की याद।
sushil sarna
अधूरे ख़्वाब की जैसे
अधूरे ख़्वाब की जैसे
Dr fauzia Naseem shad
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरा लेख
मेरा लेख
Ankita Patel
"तुम्हारी चाहतों ने ख़्वाब छीने, नींद तक छीनीं,
*Author प्रणय प्रभात*
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद — वंश परिचय — 01
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद — वंश परिचय — 01
Kirti Aphale
"सुबह की किरणें "
Yogendra Chaturwedi
Loading...