Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2022 · 1 min read

✍️अहंकार

हजारो हार के बाद मिलनेवाली
एक जित दुनिया पर भारी पड़ जाती है

हजारो जित के बाद मिलनेवाली
एक हार अहंकार पर भारी पड़ जाती है
………………………………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
19/09/2022

Language: Hindi
4 Likes · 6 Comments · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ओ माँ मेरी लाज रखो
ओ माँ मेरी लाज रखो
Basant Bhagawan Roy
*समय*
*समय*
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आओ कृष्णा !
आओ कृष्णा !
Om Prakash Nautiyal
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एक उम्र बहानों में गुजरी,
एक उम्र बहानों में गुजरी,
पूर्वार्थ
भिखारी का बैंक
भिखारी का बैंक
Punam Pande
*नेता से चमचा बड़ा, चमचा आता काम (हास्य कुंडलिया)*
*नेता से चमचा बड़ा, चमचा आता काम (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हम हैं क्योंकि वह थे
हम हैं क्योंकि वह थे
Shekhar Chandra Mitra
2777. *पूर्णिका*
2777. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
Meera Thakur
मां सिद्धिदात्री
मां सिद्धिदात्री
Mukesh Kumar Sonkar
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
Radhakishan R. Mundhra
खुशी पाने की जद्दोजहद
खुशी पाने की जद्दोजहद
डॉ० रोहित कौशिक
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
gurudeenverma198
सुहागन का शव
सुहागन का शव
अनिल "आदर्श"
कौन पंखे से बाँध देता है
कौन पंखे से बाँध देता है
Aadarsh Dubey
"" *गणतंत्र दिवस* "" ( *26 जनवरी* )
सुनीलानंद महंत
विश्वास किसी पर इतना करो
विश्वास किसी पर इतना करो
नेताम आर सी
जीवन के इस लंबे सफर में आशा आस्था अटूट विश्वास बनाए रखिए,उम्
जीवन के इस लंबे सफर में आशा आस्था अटूट विश्वास बनाए रखिए,उम्
Shashi kala vyas
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
हमारा प्रदेश
हमारा प्रदेश
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
"ये दुनिया बाजार है"
Dr. Kishan tandon kranti
संवेदनापूर्ण जीवन हो जिनका 🌷
संवेदनापूर्ण जीवन हो जिनका 🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
बादलों की उदासी
बादलों की उदासी
Shweta Soni
Loading...