Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2022 · 1 min read

★नज़र से नज़र मिला ★

नज़र से नज़र मिला नज़रों पर वार कर। देख कभी कलम की ताकत को कागज पर उतार कर। सब कुछ आसान है क्यों बैठे हो हार कर । कुछ मिलता नहीं जिस्म को बिस्तर पर पसार कर। और दरिया में उतर समंदर को पार कर । और देखना है अगर यह जालिम जमाना तुझे तो देख घर से पैर निकालकर। नज़र से नज़र मिला नज़रों पर वार कर।‌।
★IPS KAMAL THAKUR ★

1 Like · 245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ फ़क़त आतिश-ए-रंज़िश में लगे रहते हैं
कुछ फ़क़त आतिश-ए-रंज़िश में लगे रहते हैं
Anis Shah
जरूरी तो नहीं - हरवंश हृदय
जरूरी तो नहीं - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
शेखर सिंह
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
ruby kumari
भव- बन्धन
भव- बन्धन
Dr. Upasana Pandey
विश्वास करो
विश्वास करो
TARAN VERMA
मूक संवेदना
मूक संवेदना
Buddha Prakash
सोच के रास्ते
सोच के रास्ते
Dr fauzia Naseem shad
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
Kirti Aphale
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
Swara Kumari arya
हेेे जो मेरे पास
हेेे जो मेरे पास
Swami Ganganiya
बेटी और प्रकृति, ईश्वर की अद्भुत कलाकृति।
बेटी और प्रकृति, ईश्वर की अद्भुत कलाकृति।
लक्ष्मी सिंह
रूप तुम्हारा,  सच्चा सोना
रूप तुम्हारा, सच्चा सोना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
Harminder Kaur
नींव_ही_कमजोर_पड़_रही_है_गृहस्थी_की___
नींव_ही_कमजोर_पड़_रही_है_गृहस्थी_की___
पूर्वार्थ
नारी सौन्दर्य ने
नारी सौन्दर्य ने
Dr. Kishan tandon kranti
रेल दुर्घटना
रेल दुर्घटना
Shekhar Chandra Mitra
वो एक शाम
वो एक शाम
हिमांशु Kulshrestha
■ वक़्त बदल देता है रिश्तों की औक़ात।
■ वक़्त बदल देता है रिश्तों की औक़ात।
*प्रणय प्रभात*
सत्य साधना
सत्य साधना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
(22) एक आंसू , एक हँसी !
(22) एक आंसू , एक हँसी !
Kishore Nigam
*अति प्राचीन कोसी मंदिर, रामपुर*
*अति प्राचीन कोसी मंदिर, रामपुर*
Ravi Prakash
3329.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3329.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बस एक प्रहार कटु वचन का - मन बर्फ हो जाए
बस एक प्रहार कटु वचन का - मन बर्फ हो जाए
Atul "Krishn"
: काश कोई प्यार को समझ पाता
: काश कोई प्यार को समझ पाता
shabina. Naaz
ग़ज़ल की नक़ल नहीं है तेवरी + रमेशराज
ग़ज़ल की नक़ल नहीं है तेवरी + रमेशराज
कवि रमेशराज
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Neeraj Agarwal
भरत नाम अधिकृत भारत !
भरत नाम अधिकृत भारत !
Neelam Sharma
Loading...