Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2022 · 1 min read

★तक़दीर ★

तकदीर में लिखा है क्या क्या। शाय़द ये तो मुझे पता नहीं। की है आपसे दोस्ती मैंने । की तो कोई खता नहीं। की दोस्त ही है सबसे बड़ा । शायद दोस्ती से बड़ा और कोई रिश्ता नहीं। तकदीर में लिखा है ।क्या क्या शायद ये तो मुझे पता नहीं। कि उड़ जाऊं गगन में । मगर शायद मैं कोई परिंदा नहीं। और क्या लिखूं दोस्ती के बारे में । दोस्ती से पवित्र और कोई रिश्ता नहीं। और क्या सजा दोगे मुझे। शायद मौत से बड़ी तो कोई सजा नहीं । तकदीर में लिखा है क्या क्या शायद ये तो मुझे पता नहीं। और लक्ष्य से हो बढ़कर कोई मेरे लिए शायद ऐसा तो कोई बना नहीं । और बिना लक्ष्य के जो जीवन जिया शायद वो जिया नहीं। जिंदगी एक समंदर है मेरे भाई शायद कोई दरिया नहीं। तकदीर में लिखा है क्या-क्या शायद ये तो मुझे पता नहीं।।

★IPS KAMAL THAKUR ★

2 Likes · 211 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धोखे का दर्द
धोखे का दर्द
Sanjay ' शून्य'
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
पुरुषो को प्रेम के मायावी जाल में फसाकर , उनकी कमौतेजन्न बढ़
पुरुषो को प्रेम के मायावी जाल में फसाकर , उनकी कमौतेजन्न बढ़
पूर्वार्थ
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
सोच
सोच
Sûrëkhâ
रहस्य-दर्शन
रहस्य-दर्शन
Mahender Singh
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
आईना ही बता पाए
आईना ही बता पाए
goutam shaw
हम अभी ज़िंदगी को
हम अभी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
उमड़ते जज्बातों में,
उमड़ते जज्बातों में,
Niharika Verma
सत्य
सत्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
Line.....!
Line.....!
Vicky Purohit
दो जिस्म एक जान
दो जिस्म एक जान
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
Subhash Singhai
I am Cinderella
I am Cinderella
Kavita Chouhan
सत्याधार का अवसान
सत्याधार का अवसान
Shyam Sundar Subramanian
श्रावण सोमवार
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अखंड भारत
अखंड भारत
विजय कुमार अग्रवाल
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
*हे तात*
*हे तात*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
Manoj Mahato
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
Kumar lalit
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
Neelam Sharma
तुम मेरी
तुम मेरी
हिमांशु Kulshrestha
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
6-
6- "अयोध्या का राम मंदिर"
Dayanand
योग का एक विधान
योग का एक विधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...