Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Dec 2023 · 1 min read

☄️ चयन प्रकिर्या ☄️

☄️ चयन प्रकिर्या ☄️

मेरा प्रेम मात्र
सदैव तुम्हारे लिए
त्याग स्वरूप ही रहा
पर तुम्हारा प्रेम
स्त्री देह चयन मात्र ही रहा
परित्याग रूप में
अनन्त काल तक
बिन बदलाव के
नियति यही रही कि
स्पर्श के बाद विछोह
मानों गंध मात्र से दूरी
शरीर को मात्र घरोंदा समझ
नष्ट कर देना मात्र
सदियों की रीति नीति
चयन प्रकिर्या शायद
तुम्हारे हाथों की कठपुतली
और उसके धागे नांचेगे
तुम्हारे इशारे मात्र से
पल में सँवारना व
पल में धूमिल कर देना
मेरा प्रेम मात्र
डॉ मंजु सैनी
गाज़ियाबाद

1 Like · 124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Manju Saini
View all
You may also like:
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
वास्तविक प्रकाशक
वास्तविक प्रकाशक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2672.*पूर्णिका*
2672.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-282💐
💐प्रेम कौतुक-282💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
Dr. Vaishali Verma
सवाल जवाब
सवाल जवाब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपनी समझ और सूझबूझ से,
अपनी समझ और सूझबूझ से,
आचार्य वृन्दान्त
राजाधिराज महाकाल......
राजाधिराज महाकाल......
Kavita Chouhan
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए
अंकित आजाद गुप्ता
सियासत
सियासत "झूठ" की
*Author प्रणय प्रभात*
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
Sarfaraz Ahmed Aasee
संक्रांति
संक्रांति
Harish Chandra Pande
मेरा आंगन
मेरा आंगन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बस जाओ मेरे मन में
बस जाओ मेरे मन में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*केवल पुस्तक को रट-रट कर, किसने प्रभु को पाया है (हिंदी गजल)
*केवल पुस्तक को रट-रट कर, किसने प्रभु को पाया है (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
सच्चा प्यार
सच्चा प्यार
Mukesh Kumar Sonkar
💫समय की वेदना💫
💫समय की वेदना💫
SPK Sachin Lodhi
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
प्रेम की बंसी बजे
प्रेम की बंसी बजे
DrLakshman Jha Parimal
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
Ajad Mandori
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
gurudeenverma198
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
Er. Sanjay Shrivastava
श्री गणेश का अर्थ
श्री गणेश का अर्थ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"कहानी अउ जवानी"
Dr. Kishan tandon kranti
"सपनों का सफर"
Pushpraj Anant
कितने बड़े हैवान हो तुम
कितने बड़े हैवान हो तुम
मानक लाल मनु
*कभी  प्यार में  कोई तिजारत ना हो*
*कभी प्यार में कोई तिजारत ना हो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...