Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2023 · 1 min read

■ साहित्यपीडिया से सवाल

■ बताओ तो…!!
जितने महानुभाव आपकी तथाकथित “ट्रंडिंग” के “टॉप-5” में लगातार बने हुए हैं, वो कौन से वेद की ऋचाएं या अमर कथाएं लिख रहे हैं? पता तो चले कम से कम। मानदंड क्या हैं आपके…?
मुझे लगता है कि यह एक सवाल उन सभी को पूछना चाहिए जो मेरी तरह सजग और सक्रिय हैं अपने रचनाधर्म को लेकर। वरना लोग आगे से हो कर इस बात को कहां समझेंगे कि-
“मैं पर्वतों से लड़ता रहा और चंद लोग।
गीली ज़मीन खोद के फ़रहाद हो गए।।”
शेर मेरा नहीं साहब! किसी उस्ताद का है। यहां फिट हो रहा था, तो करना पड़ा।
【प्रणय प्रभात】

1 Like · 37 Views
You may also like:
उम्मीदों के आसमान पे बैठे हुए थे जब,
उम्मीदों के आसमान पे बैठे हुए थे जब,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
कविता
कविता
Shyam Pandey
💐प्रेम कौतुक-548💐
💐प्रेम कौतुक-548💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ लघुकथा
■ लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
तुक से तुक मिलाते हैं (मुक्तक)
तुक से तुक मिलाते हैं (मुक्तक)
Ravi Prakash
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
Charu Mitra
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
शिव प्रताप लोधी
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
Ms.Ankit Halke jha
लागो ना नज़र तहके
लागो ना नज़र तहके
Shekhar Chandra Mitra
सूना आज चमन...
सूना आज चमन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन-गीत
जीवन-गीत
Dr. Kishan tandon kranti
पत्नी
पत्नी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
Shashi kala vyas
ऐसा खेलना होली तुम अपनों के संग ,
ऐसा खेलना होली तुम अपनों के संग ,
कवि दीपक बवेजा
विचार मंच भाग -7
विचार मंच भाग -7
Rohit Kaushik
छोड़ जाएंगे
छोड़ जाएंगे
रोहताश वर्मा मुसाफिर
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
Tarun Prasad
तूफानों से लड़ना सीखो
तूफानों से लड़ना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
_सुलेखा.
' चाह मेँ ही राह '
' चाह मेँ ही राह '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ना जाने क्यों आज वक्त ने हालात बदल
ना जाने क्यों आज वक्त ने हालात बदल
Vishal babu (vishu)
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
Ram Krishan Rastogi
2244.
2244.
Dr.Khedu Bharti
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
Dr Nisha nandini Bhartiya
सत्य
सत्य
Dr. Rajiv
नई तरह का कारोबार है ये
नई तरह का कारोबार है ये
shabina. Naaz
दोहा
दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रणय 2
प्रणय 2
Ankita Patel
Loading...