Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2023 · 1 min read

■ सनातन पर्वों के ख़िलाफ़ हमारे अपने झूठे संगठन।

■ सनातन पर्वों के ख़िलाफ़ दुरंगी दुनिया से ज़्यादा झूठे हमारे अपने संगठन।

1 Like · 150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भ्रम अच्छा है
भ्रम अच्छा है
Vandna Thakur
आज सबको हुई मुहब्बत है।
आज सबको हुई मुहब्बत है।
सत्य कुमार प्रेमी
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
Dr. Narendra Valmiki
"रहबर"
Dr. Kishan tandon kranti
#दुःखद_दिन-
#दुःखद_दिन-
*Author प्रणय प्रभात*
पनघट और पगडंडी
पनघट और पगडंडी
Punam Pande
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
लक्ष्मी सिंह
मैयत
मैयत
शायर देव मेहरानियां
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
Rj Anand Prajapati
2474.पूर्णिका
2474.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
" रे, पंछी पिंजड़ा में पछताए "
Chunnu Lal Gupta
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
व्यक्तिगत न्याय
व्यक्तिगत न्याय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Y
Y
Rituraj shivem verma
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
Harminder Kaur
ढलती हुई दीवार ।
ढलती हुई दीवार ।
Manisha Manjari
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Ram Krishan Rastogi
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
gurudeenverma198
*धूप में रक्त मेरा*
*धूप में रक्त मेरा*
Suryakant Dwivedi
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
ख़ुद को मुर्दा शुमार मत करना
Dr fauzia Naseem shad
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भाव तब होता प्रखर है
भाव तब होता प्रखर है
Dr. Meenakshi Sharma
"घर की नीम बहुत याद आती है"
Ekta chitrangini
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
Yogendra Chaturwedi
Loading...