Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Dec 2022 · 2 min read

■ व्यंग्य / एक न्यूज़ : जो उड़ा दी फ्यूज..

#व्यंग्य-
■ समाचार बोले तो गुर्दा-फाड़ स्पर्द्धा….
【प्रणय प्रभात】
समाचार अब समाचार नहीं चीत्कार बन चुके हैं। चीत्कार भी निरीह जनता नहीं न्यूज़ एंकर या मैदानी रिपोर्टर की। मंशा तिल को ताड़ और राई को पहाड़ बना डालने की। आवाज़ ऐसी मानो गला और गुर्दा एक साथ फट पड़ने को बेताब हो। अंदाज़ मैदानी-जंग में यलगार बोलने जैसा। दो कोड़ी के मुद्दे पर एक-एक लाइन को बार-बार दोहरा कर ख़ुद से ज़्यादा जनता का टाइम खोटा करना मानो इनका पैदाइशी हक़ हो। देश मे वाजिब मुद्दों और मसलों का टोटा साबित करने वाले इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के ढर्रे की एक बानगी-
सुर्ख लाल बैकग्राउंड के सामने काले वेस्टर्न परिधान में सजी महिला एंकर। अपना और अपने शो का नाम बताने के बाद अचानक रेसिंग बाइक की तरह पिकअप पकड़ते हुए न केवल अपना वॉल्यूम बढ़ा देती है, बल्कि दर्शकों की हार्ट-बीत भी तेज कर देती है। कुछ इस अंदाज में-
“इस वक़्त आप देख रहे हैं पकाऊ न्यूज़ का सबसे दमदार शो भेजा फ्राई। हम लेकर आए हैं एक बहुत बड़ी खबर। झुमरी तलैया से आ रही है आज की सबसे बड़ी खबर। जी हां, हम आपको बता रहे हैं आज की सबसे बड़ी खबर।
पुलिस कस्टडी में रात भर रोती रही हनीप्रीत। जी हां, बिल्कुल सही सुना आपने। टेलीविज़न के इतिहास में अब आएगा भूचाल। खबर से जुड़े हर पहलू को सामने लाने के लिए पांच जगह मौजूद हैं हमारे रिपोर्टर। इंतज़ार कीजिए दिल थाम कर।। हम करेंगे हनीप्रीत के एक-एक आंसू से जुड़ा धाँसू खुलासा। आज हम बताएंगे आपको पल-पल का हाल।
देश के नम्बर वन चैनल पर मिलेगी आपको एक-एक जानकारी।
* कितना बड़ा था आंसू का आकार?
* क्या रहा प्रत्येक आंसू का वज़न?
* प्रति मिनट टपके कितने आंसू?
* आंसू दांई आंख से ज़्यादा निकले या बांई से?
* रूमाल में सोखे गए कितने टसुए?
* कितने आंसुओं ने भिगोया दुपट्टा?
आज पूरा सच उजागर करेगा आपका पसंदीदा और देश का सबसे सुपर फास्ट चैनल। बस एक छोटे से ब्रेक के बाद। मोर्चे पर डेट हैं हम और हमारे सारे रिपोर्टर। डटे रहिए आप भी। मिलते हैं ब्रेक के बाद।

1 Like · 219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
Dr Manju Saini
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कड़वा सच
कड़वा सच
Sanjeev Kumar mishra
फ़र्ज़ ...
फ़र्ज़ ...
Shaily
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
पत्थर का सफ़ीना भी, तैरता रहेगा अगर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मधुमय फागुन क्या करे,प्रियतम बिना उदास(कुंडलिया)
मधुमय फागुन क्या करे,प्रियतम बिना उदास(कुंडलिया)
Ravi Prakash
वक्त
वक्त
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
करतूतें किस को बतलाएं
करतूतें किस को बतलाएं
*Author प्रणय प्रभात*
"मैं" का मैदान बहुत विस्तृत होता है , जिसमें अहम की ऊँची चार
Seema Verma
मजबूरी तो नहीं
मजबूरी तो नहीं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
2754. *पूर्णिका*
2754. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अदब
अदब
Dr Parveen Thakur
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हम लड़के हैं जनाब...
हम लड़के हैं जनाब...
पूर्वार्थ
इंसान भी तेरा है
इंसान भी तेरा है
Dr fauzia Naseem shad
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
Sukoon
जो दिल के पास रहते हैं
जो दिल के पास रहते हैं
Ranjana Verma
यह तो आदत है मेरी
यह तो आदत है मेरी
gurudeenverma198
जीवन वो कुरुक्षेत्र है,
जीवन वो कुरुक्षेत्र है,
sushil sarna
जान लो पहचान लो
जान लो पहचान लो
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
श्री कृष्ण अवतार
श्री कृष्ण अवतार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"वक्त के गर्त से"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
मुक्तामणि छंद [सम मात्रिक].
Subhash Singhai
* प्यार के शब्द *
* प्यार के शब्द *
surenderpal vaidya
Loading...