Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

■ लघु-व्यंग्य

■ तो समझ लेना-
【प्रणय प्रभात】
“जब मृतात्माऐं क़ब्र फाड़ कर बाहर निकल आऐं और अपने जीवित होने का सुबूत कोहराम मचाते हुए देने लगें।
चारों तरफ शोर-गुल व हलचल बढ़ जाए और आम आदमी रातों-रात ख़ास नज़र आने लगे।
बेसहारों को चारा-पानी नसीब होने लग जाए और मुर्दा संगठन व संस्थाऐं अकस्मात क्रियाशील हो उठें।
सदियों पहले के दिवंगत और मर-खप चुके जीव अचानक पूजित हो सुर्खियों में आ जाएं तथा लौंग-अदरक जैसी तीखी ज़ुबानों से इलायची की सुगंध के साथ शहद टपकने लगे तो समझ लेना चाहिए कि चुनाव सिर पर हैं।”

1 Like · 121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3031.*पूर्णिका*
3031.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लोककवि रामचरन गुप्त मनस्वी साहित्यकार +डॉ. अभिनेष शर्मा
लोककवि रामचरन गुप्त मनस्वी साहित्यकार +डॉ. अभिनेष शर्मा
कवि रमेशराज
जेल जाने का संकट टले,
जेल जाने का संकट टले,
*Author प्रणय प्रभात*
विजयी
विजयी
Raju Gajbhiye
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
रेखा कापसे
*खुशी लेकर चली आए, सभी के द्वार दीवाली (हिंदी गजल)*
*खुशी लेकर चली आए, सभी के द्वार दीवाली (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बेहिसाब सवालों के तूफान।
बेहिसाब सवालों के तूफान।
Taj Mohammad
राजनीति का नाटक
राजनीति का नाटक
Shyam Sundar Subramanian
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
shabina. Naaz
"वक्त के साथ"
Dr. Kishan tandon kranti
चुनावी घोषणा पत्र
चुनावी घोषणा पत्र
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गहरी हो बुनियादी जिसकी
गहरी हो बुनियादी जिसकी
कवि दीपक बवेजा
क्यों मुश्किलों का
क्यों मुश्किलों का
Dr fauzia Naseem shad
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
Surinder blackpen
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
Lokesh Singh
जिन्दगी
जिन्दगी
लक्ष्मी सिंह
समय के साथ ही हम है
समय के साथ ही हम है
Neeraj Agarwal
ਅੱਜ ਕੱਲ੍ਹ
ਅੱਜ ਕੱਲ੍ਹ
Munish Bhatia
*जिंदगी*
*जिंदगी*
Harminder Kaur
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
वर्षों जहां में रहकर
वर्षों जहां में रहकर
पूर्वार्थ
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
एक तरफ तो तुम
एक तरफ तो तुम
Dr Manju Saini
मेरा भारत देश
मेरा भारत देश
Shriyansh Gupta
नया सवेरा
नया सवेरा
नन्दलाल सुथार "राही"
श्रीराम गाथा
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
बुंदेली_मुकरियाँ
बुंदेली_मुकरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...