Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2023 · 1 min read

■ मुक्तक

■ मुक्तक

1 Like · 161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आँखों से नींदे
आँखों से नींदे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
मुक्त पुरूष #...वो चला गया.....
Santosh Soni
अपनी इच्छाओं में उलझा हुआ मनुष्य ही गरीब होता है, गरीब धोखा
अपनी इच्छाओं में उलझा हुआ मनुष्य ही गरीब होता है, गरीब धोखा
Sanjay ' शून्य'
मुकाम
मुकाम
Swami Ganganiya
दोहे-बच्चे
दोहे-बच्चे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2996.*पूर्णिका*
2996.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रदीप : श्री दिवाकर राही  का हिंदी साप्ताहिक (26-1-1955 से
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक (26-1-1955 से
Ravi Prakash
तसव्वुर
तसव्वुर
Shyam Sundar Subramanian
कुछ बातें मन में रहने दो।
कुछ बातें मन में रहने दो।
surenderpal vaidya
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
बेशक प्यार तुमसे था, है ,और शायद  हमेशा रहे।
बेशक प्यार तुमसे था, है ,और शायद हमेशा रहे।
Vishal babu (vishu)
हिन्दी पढ़ लो -'प्यासा'
हिन्दी पढ़ लो -'प्यासा'
Vijay kumar Pandey
ख्वाहिशे  तो ताउम्र रहेगी
ख्वाहिशे तो ताउम्र रहेगी
Harminder Kaur
मकर संक्रांति -
मकर संक्रांति -
Raju Gajbhiye
फिर कब आएगी ...........
फिर कब आएगी ...........
SATPAL CHAUHAN
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
दिल
दिल
Dr Archana Gupta
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
प्यास
प्यास
sushil sarna
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
तुम अभी आना नहीं।
तुम अभी आना नहीं।
Taj Mohammad
■ एक_पैग़ाम :-
■ एक_पैग़ाम :-
*Author प्रणय प्रभात*
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
Buddha Prakash
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
Shweta Soni
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बेशक हम गरीब हैं लेकिन दिल बड़ा अमीर है कभी आना हमारे छोटा स
बेशक हम गरीब हैं लेकिन दिल बड़ा अमीर है कभी आना हमारे छोटा स
Ranjeet kumar patre
Expectations
Expectations
पूर्वार्थ
*औपचारिकता*
*औपचारिकता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...