Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2023 · 1 min read

■ मुक्तक और कटाक्ष…

#जंगलराज
■ चुनाव माने तनाव…!
माहौल हो तनाव का तो समझ लेना कि मौसम है चुनाव का। बात है “रामराज” के नाम पर जारी “जंगलराज” की। मुक़ाबला है सांपनाथ और नागनाथ के बीच। अमृतकाल में विष की बारिश। धर्म और अधर्म के नाम पर थोथी नूरा-कुश्ती। बेमतलब की चोंचबाज़ी। आम जीवों का जीना मुहाल। हर एक छुटभैया “माई का लाल।” निशाने पर शाश्वत संस्कृति और सभ्यताएं। दो कौड़ी के करोड़पति गधों की ढेंचू-ढेंचू का शोर। वो भी चारों ओर। हे माँ माताजी…!!
【प्रणय प्रभात】

1 Like · 324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* याद कर लें *
* याद कर लें *
surenderpal vaidya
*आया जाने कौन-सा, लेकर नाम बुखार (कुंडलिया)*
*आया जाने कौन-सा, लेकर नाम बुखार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दिल का हर अरमां।
दिल का हर अरमां।
Taj Mohammad
संगीत का महत्व
संगीत का महत्व
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रदीप माहिर
Midnight success
Midnight success
Bidyadhar Mantry
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
टूटी ख्वाहिश को थोड़ी रफ्तार दो,
Sunil Maheshwari
वापस आना वीर
वापस आना वीर
लक्ष्मी सिंह
■ त्रिवेणी धाम : हरि और हर का मिलन स्थल
■ त्रिवेणी धाम : हरि और हर का मिलन स्थल
*Author प्रणय प्रभात*
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सत्य दीप जलता हुआ,
सत्य दीप जलता हुआ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
संघर्ष
संघर्ष
Shyam Sundar Subramanian
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
सुता ये ज्येष्ठ संस्कृत की,अलंकृत भाल पे बिंदी।
सुता ये ज्येष्ठ संस्कृत की,अलंकृत भाल पे बिंदी।
Neelam Sharma
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
Anil Mishra Prahari
23/41.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/41.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
Sarfaraz Ahmed Aasee
पिता और पुत्र
पिता और पुत्र
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
कवि रमेशराज
बोलने को मिली ज़ुबां ही नहीं
बोलने को मिली ज़ुबां ही नहीं
Shweta Soni
शिक्षित लोग
शिक्षित लोग
Raju Gajbhiye
आंसुओं के समंदर
आंसुओं के समंदर
अरशद रसूल बदायूंनी
"चीखें विषकन्याओं की"
Dr. Kishan tandon kranti
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मस्जिद से अल्लाह का एजेंट भोंपू पर बोल रहा है
मस्जिद से अल्लाह का एजेंट भोंपू पर बोल रहा है
Dr MusafiR BaithA
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
Kanchan Khanna
आपको याद भी
आपको याद भी
Dr fauzia Naseem shad
आदिवासी
आदिवासी
Shekhar Chandra Mitra
Loading...