Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2023 · 1 min read

■ “मान न मान, मैं तेरा मेहमान” की लीक पर चलने का सीधा सा मतल

■ “मान न मान, मैं तेरा मेहमान” की लीक पर चलने का सीधा सा मतलब अपने अपमान की राह ख़ुद बनाना है।

1 Like · 367 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙅सीधी बात🙅
🙅सीधी बात🙅
*प्रणय प्रभात*
ऐ सूरज तू अपनी ताप को अब कम कर दे
ऐ सूरज तू अपनी ताप को अब कम कर दे
Keshav kishor Kumar
समय को पकड़ो मत,
समय को पकड़ो मत,
Vandna Thakur
कुछ नहीं बचेगा
कुछ नहीं बचेगा
Akash Agam
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2447.पूर्णिका
2447.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मंजिल न मिले
मंजिल न मिले
Meera Thakur
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
हम वो हिंदुस्तानी है,
हम वो हिंदुस्तानी है,
भवेश
अबला नारी
अबला नारी
Neeraj Agarwal
Typing mistake
Typing mistake
Otteri Selvakumar
हम बच्चों की आई होली
हम बच्चों की आई होली
लक्ष्मी सिंह
बुजुर्ग कहीं नहीं जाते ...( पितृ पक्ष अमावस्या विशेष )
बुजुर्ग कहीं नहीं जाते ...( पितृ पक्ष अमावस्या विशेष )
ओनिका सेतिया 'अनु '
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बंधे रहे संस्कारों से।
बंधे रहे संस्कारों से।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
Harinarayan Tanha
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
खामोशी : काश इसे भी पढ़ लेता....!
खामोशी : काश इसे भी पढ़ लेता....!
VEDANTA PATEL
क्या हिसाब दूँ
क्या हिसाब दूँ
हिमांशु Kulshrestha
विदाई
विदाई
Aman Sinha
!............!
!............!
शेखर सिंह
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
सब कुछ मिले संभव नहीं
सब कुछ मिले संभव नहीं
Dr. Rajeev Jain
🎊🏮*दीपमालिका  🏮🎊
🎊🏮*दीपमालिका 🏮🎊
Shashi kala vyas
रिश्तो की कच्ची डोर
रिश्तो की कच्ची डोर
Harminder Kaur
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
---- विश्वगुरु ----
---- विश्वगुरु ----
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
भूख
भूख
नाथ सोनांचली
Loading...