Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Dec 2022 · 2 min read

■ नज़्म / धड़कते दिलों के नाम…!

■ नज़्म /
एक कहानी है रूमानी…!
【प्रणय प्रभात】
वक़्त हो तो आइए,
इक दास्तां सुन लीजिए।
कुछ रुमानी ख़्वाब अपने
ज़हन में बुन लीजिए।।
इश्क़ कैसे जागता है
जागती हैं ख़्वाहिशें।
दो दिलों को किस तरह से
जोड़ती हैं बारिशें।।
आज भीगी सी है रुत
महकी हुई सी रात है।
हम जवां होने को थे
ये उन दिनों की बात है।।
था वो महीना जून का
हो कर चुकी बरसात थी।
थोड़ी तपिश थी आसमां पे
अब्र की बारात थी।।
वाकिफ़ नहीं थे इश्क़ से
ना आशिक़ी के रंग में।
मासूम सी इक गुलबदन
अल्हड़ सी लड़की संग में।।
पहचान थी कुछ रोज़ की
ज़्यादा न जाना था उसे।
था हुक्म घर वालों का तो
घर छोड़ आना था उसे।।
घर से निकल कुछ देर में
कच्ची सड़क पर आ गए।
इके बार फिर से आसमां पे
अब्र काले छा गए।।
घर दूर था उसका अभी
रफ़्तार बेहद मंद थी।
बरसात के आसार थे
बहती हवा अब बंद थी।।
मौसम के तेवर भांप के
संकोच अपना छोड़ कर।
कुछ तेज़ चलिए ये कहा
मैने ही चुप्पी तोड़ कर।।
ठिठकी, रुकी, बोली लगा
झरना अचानक से बहा।
मैंने सुना उस शोख़ ने
इक अटपटा जुमला कहा।
थे लफ़्ज़ मामूली मगर
मानी दुधारी हो गए।
बेसाख़्ता बोली वो
मेरे पाँव भारी हो गए।।
ये समझ आया नहीं
दिल आह बोले या कि वाह।
चौंक कर चेहरे पे उसके
थम गई मेरी निगाह।
एकटक देखा उसे
मौसम शराबी हो गया।
मरमरी रूख शर्म से
बेहद ग़ुलाबी हो गया।।
पल भर में ख़ुद की बात ख़ुद
उसकी समझ मे आ गई।
क्या कह गई ये सोच के
वो नाज़नीं शरमा गई।।
नीचे निगाहें झुक गई,
लब भी लरज़ने लग गए।
बरसात होने लग गई
बादल गरजने लग गए।।
नज़रों से नज़रें मिल गईं
माहौल में कुछ रस घुला।
उसने दिखाया पाँव अपना
राज़ तब जाकर खुला।।
गीली मिट्टी में मुझे
लिथड़ी दिखीं जब जूतियां।
पाँव भारी क्यों हुए थे
ये समझ आया मियां।।
वाक़या छोटा था पर
इक ख़ास किस्सा हो गया।।
मुख़्तसर सा वो सफ़र
जीवन का हिस्सा हो गया।।

Language: Hindi
1 Like · 138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
***वारिस हुई***
***वारिस हुई***
Dinesh Kumar Gangwar
क्यो नकाब लगाती हो
क्यो नकाब लगाती हो
भरत कुमार सोलंकी
ड्यूटी और संतुष्टि
ड्यूटी और संतुष्टि
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
कार्तिक नितिन शर्मा
ग्रामीण ओलंपिक खेल
ग्रामीण ओलंपिक खेल
Shankar N aanjna
........,!
........,!
शेखर सिंह
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
हम रात भर यूहीं तड़पते रहे
Ram Krishan Rastogi
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
उसकी मर्जी
उसकी मर्जी
Satish Srijan
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
छोड़ दिया है मैंने अब, फिक्र औरों की करना
gurudeenverma198
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
Rekha khichi
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
Sûrëkhâ
तुझे खुश देखना चाहता था
तुझे खुश देखना चाहता था
Kumar lalit
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
एक संदेश बुनकरों के नाम
एक संदेश बुनकरों के नाम
Dr.Nisha Wadhwa
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
Manju Singh
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
तुम - हम और बाजार
तुम - हम और बाजार
Awadhesh Singh
यूँ भी होता है,अगर दिल में ख़लिश आ जाए,,
यूँ भी होता है,अगर दिल में ख़लिश आ जाए,,
Shweta Soni
“ भयावह व्हाट्सप्प ”
“ भयावह व्हाट्सप्प ”
DrLakshman Jha Parimal
दीपक इसलिए वंदनीय है क्योंकि वह दूसरों के लिए जलता है दूसरो
दीपक इसलिए वंदनीय है क्योंकि वह दूसरों के लिए जलता है दूसरो
Ranjeet kumar patre
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
"कुछ तो गुना गुना रही हो"
Lohit Tamta
न्योता ठुकराने से पहले यदि थोड़ा ध्यान दिया होता।
न्योता ठुकराने से पहले यदि थोड़ा ध्यान दिया होता।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आगे निकल जाना
आगे निकल जाना
surenderpal vaidya
कौन किसी को बेवजह ,
कौन किसी को बेवजह ,
sushil sarna
3356.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3356.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
रिश्ते चंदन की तरह
रिश्ते चंदन की तरह
Shubham Pandey (S P)
*हंगामा करने वाले, समझो बस शोर मचाते हैं (हिंदी गजल)*
*हंगामा करने वाले, समझो बस शोर मचाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...