Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Dec 2022 · 1 min read

■ दैनिक लेखन स्पर्द्धा / मेरे नायक

◆कविता◆
■ मेरे_नायक_मेरे_राम
【प्रणय प्रभात】
कुल आठ याम
बस एक नाम
मम कर्म राम
मम धर्म राम
मम गेह राम
मम नेह राम
आभास राम
विश्वास राम
मम आस राम
उल्लास राम
हैं कोष राम
संतोष राम
परिहास राम
मृदु हास राम
संकल्प राम
आकल्प राम
शब्दार्थ राम
भावार्थ राम
परमार्थ राम
पुरुषार्थ राम
हैं अगन राम
हैं गगन राम
मम लगन राम
मन मगन राम
अभिराम राम
अविराम राम
निर्झरी नीर
शीतल समीर
मद्धिम फुहार
सुरभित बयार
अनछुई भोर
पावन हिलोर
है जप है तप
है महाविटप
है बुद्धि राम
है शुद्धि राम
मम हर्ष राम
उत्कर्ष राम
तापसी राम
राजसी राम
मनमोहन है
सम्मोहन है
संताप हरण
ये वशीकरण
हैं तात राम
हैं मात राम
हैं स्वाद राम
आह्लाद राम
हैं विकट राम
निष्कपट राम
आनन्द राम
मकरन्द राम
निष्काम राम
सुखधाम राम
कटिबद्ध राम
प्रतिबद्ध राम
मन्तव्य राम
गन्तव्य राम
हैं साध्य राम
आराध्य राम
है परम् तत्व
हैं महा सत्व
अनुपम सुवास
अद्भुत मिठास
हैं प्राण राम
कल्याण राम
कलरव किलोल
हीरक अमोल
परब्रह्म नाद
कलकल निनाद
हैं सुपथ राम
हैं शपथ राम
सामर्थ्य-वान
करुणा निधान
सर्वेश राम
अनिमेष राम
हैं भव्य राम
हैं दिव्य राम
मम दृष्टि राम
यह सृष्टि राम
स्वर शक्ति राम
नव भक्ति राम
इहलोक राम
परलोक राम
वो आदि अंत
वो दिग-दिगंत
अविरल धारा
तारण-हारा
नयनाभिराम
अवधेश राम
(विस्तार शेष है, शेष ही रहेगा)
🌹🙏🏼🌹🙏🏼🌹🙏🏼🌹

1 Like · 3 Comments · 329 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल कि गली
दिल कि गली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"कर्म का मर्म"
Dr. Kishan tandon kranti
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
Keshav kishor Kumar
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
जिस बस्ती मेंआग लगी है
जिस बस्ती मेंआग लगी है
Mahendra Narayan
2325.पूर्णिका
2325.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
Rj Anand Prajapati
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ ये हैं ठेकेदार
■ ये हैं ठेकेदार
*प्रणय प्रभात*
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2
2
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में (मुक्तक) *
*नहीं पूनम में मिलता, न अमावस रात काली में (मुक्तक) *
Ravi Prakash
आत्मविश्वास से लबरेज व्यक्ति के लिए आकाश की ऊंचाई नापना भी उ
आत्मविश्वास से लबरेज व्यक्ति के लिए आकाश की ऊंचाई नापना भी उ
Paras Nath Jha
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
कवि रमेशराज
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ना कर नज़रंदाज़ देखकर मेरी शख्सियत को, हिस्सा हूं उस वक्त का
ना कर नज़रंदाज़ देखकर मेरी शख्सियत को, हिस्सा हूं उस वक्त का
SUDESH KUMAR
Them: Binge social media
Them: Binge social media
पूर्वार्थ
Jeevan ka saar
Jeevan ka saar
Tushar Jagawat
हम किसी सरकार में नहीं हैं।
हम किसी सरकार में नहीं हैं।
Ranjeet kumar patre
चरित्र राम है
चरित्र राम है
Sanjay ' शून्य'
वस हम पर
वस हम पर
Dr fauzia Naseem shad
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
SUNIL kumar
आँखों में अँधियारा छाया...
आँखों में अँधियारा छाया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
चार मुक्तक
चार मुक्तक
Suryakant Dwivedi
*हथेली  पर  बन जान ना आए*
*हथेली पर बन जान ना आए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
17== 🌸धोखा 🌸
17== 🌸धोखा 🌸
Mahima shukla
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
शेखर सिंह
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Kavita
Kavita
shahab uddin shah kannauji
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...