Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Sep 2023 · 1 min read

■ जिसे जो समझना समझता रहे।

■ जिसे जो समझना समझता रहे।

1 Like · 124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
*चाटुकार*
*चाटुकार*
Dushyant Kumar
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
Vishal babu (vishu)
दोहे नौकरशाही
दोहे नौकरशाही
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
Suryakant Dwivedi
अन्न का मान
अन्न का मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
" चलन "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"जीवन का संघर्ष"
Dr. Kishan tandon kranti
याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
Kumar lalit
नयन कुंज में स्वप्न का,
नयन कुंज में स्वप्न का,
sushil sarna
अभी गनीमत है
अभी गनीमत है
शेखर सिंह
आया करवाचौथ, सुहागिन देखो सजती( कुंडलिया )
आया करवाचौथ, सुहागिन देखो सजती( कुंडलिया )
Ravi Prakash
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
Aarti sirsat
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी को जीने का तरीका न आया।
जिंदगी को जीने का तरीका न आया।
Taj Mohammad
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
ख्वाबो में मेरे इस तरह आया न करो
Ram Krishan Rastogi
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
आर.एस. 'प्रीतम'
नन्ही मिष्ठी
नन्ही मिष्ठी
Manu Vashistha
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
#कविता
#कविता
*Author प्रणय प्रभात*
लुटा दी सब दौलत, पर मुस्कान बाकी है,
लुटा दी सब दौलत, पर मुस्कान बाकी है,
Rajesh Kumar Arjun
* जन्मभूमि का धाम *
* जन्मभूमि का धाम *
surenderpal vaidya
3122.*पूर्णिका*
3122.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐अज्ञात के प्रति-134💐
💐अज्ञात के प्रति-134💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
घबराना हिम्मत को दबाना है।
घबराना हिम्मत को दबाना है।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक लड़का,
एक लड़का,
हिमांशु Kulshrestha
Loading...