Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

■ जम्हूरियत के जमूरे…

■ जम्हूरियत के जमूरे…
“एक चुनावी साल और लाख मुंगेरीलाल। तमाम अगड़े, तमाम पिछड़ें। सब बिल्ली से, ढूंढ रहे हैं छिछड़े।।”
●प्रणय प्रभात●

1 Like · 243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*बदलाव की लहर*
*बदलाव की लहर*
sudhir kumar
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
किताबों वाले दिन
किताबों वाले दिन
Kanchan Khanna
जै जै अम्बे
जै जै अम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
क्या
क्या
Dr. Kishan tandon kranti
"सत्य अमर है"
Ekta chitrangini
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
गज़ल क्या लिखूँ मैं तराना नहीं है
गज़ल क्या लिखूँ मैं तराना नहीं है
VINOD CHAUHAN
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
Neelam Sharma
कन्या पूजन
कन्या पूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्वार्थ
स्वार्थ
Neeraj Agarwal
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
3195.*पूर्णिका*
3195.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हीं  से  मेरी   जिंदगानी  रहेगी।
तुम्हीं से मेरी जिंदगानी रहेगी।
Rituraj shivem verma
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
Harminder Kaur
माँ की चाह
माँ की चाह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
నా గ్రామం..
నా గ్రామం..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
क्या होगा लिखने
क्या होगा लिखने
Suryakant Dwivedi
#विभाजन_दिवस
#विभाजन_दिवस
*प्रणय प्रभात*
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
जन्माष्टमी
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
अक्सर मां-बाप
अक्सर मां-बाप
Indu Singh
तेरी खुशबू
तेरी खुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दवाइयां जब महंगी हो जाती हैं, ग़रीब तब ताबीज पर यकीन करने लग
दवाइयां जब महंगी हो जाती हैं, ग़रीब तब ताबीज पर यकीन करने लग
Jogendar singh
बचपन कितना सुंदर था।
बचपन कितना सुंदर था।
Surya Barman
*माँ : दस दोहे*
*माँ : दस दोहे*
Ravi Prakash
अगर हौसला हो तो फिर कब ख्वाब अधूरा होता है,
अगर हौसला हो तो फिर कब ख्वाब अधूरा होता है,
Shweta Soni
Loading...