Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2022 · 2 min read

■ चिंतन / मूल्य मानव का…..

#जीवन_की_सच्चाई:
■ मृत्यु के बाद मूल्य चंद रुपए
【प्रणय प्रभात】
सामान्यतः जीवन को अमूल्य माना जाता है और मानवीय देह को ईश्वरीय वरदान। इस सनातन सत्य और तथ्य की सार्थकता तब है जब जीवन शाश्वत मूल्यों पर केंद्रित और मानवीय गुणों से ओतप्रोत हो। जिनकी उपेक्षा मानव लगातार करता आ रहा है। नैतिकता, सदाचार और मानवीय मूल्यों के बिना मानव जीवन का कोई मूल्य नहीं। उस देह का मूल्य भी महज चंद रुपए, जिस पर इंसान जीवन का जोश रहने तक दम्भ करता है। जी हां, भौतिक युग की सच्चाई यही है, जिसे हम इस तथ्य से बखूबी समझ सकते हैं। जब किसी मनुष्य की मृत्यु हो जाती है तो उसकी अंत्येष्टि कर दी जाती है। जीते जी करोड़ों के अंग रखने वाली बहुमूल्य मानवीय देह
निष्प्राण होने के बाद मिट्टी हो जाती है। निष्प्राण देह के जल जाने के बाद वो राख’ में बदल जाता है। इस राख (खाक़) में मात्र 25 रुपए का केल्शियम, 10 रुपए का फास्फोरस और 30 रुपए के अन्य माइक्रो न्यूटरिएण्ट्स होते हैं। मतलब मरने के बाद आदमी की ‘कीमत 65 रुपए’ से ज्यादा नहीं बचती। चाहे मरने वाला राजा हो या रंक। मतलब स्पष्ट है कि मूल्य देह नहीं आत्मा का है। उस आत्मा का, जो जीवन के मूल्य जानती हो। मरणोपरांत जीवन का मूल्य वो स्मृतियां तय करती हैं जो सुकर्म या कृतित्व कहलाती हैं। कृतित्व का सम्बंध व्यक्तित्व नहीं व्यवहार और आचार-विचार से होता है। इसे विस्मृत नहीं किया जाना चाहिए।
इसीलिए मानव मात्र को सांसारिक विलासिता, शारीरिक बल, सार्वजनिक व सामाजिक स्थिति और रूप-सौंदर्य आदि का आडम्बर व थोथा अहंकार छोड कर अपना मानव धर्म, राष्ट्र धर्म निभाना चाहिए। ताकि जिस मिट्टी में पैदा हुआ है, उसका थोड़ा सा ऋण चुका सकें और ईश्वर को बता सकें कि उसे मानव बनाना उसकी भूल नहीं थी। जीवन का वास्तविक मूल्य भी शायद यही है।
😊😊😊😊😊😊😊😊
॥ वन्दे मातरम् ॥

1 Like · 124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अहम ब्रह्मास्मि*
*अहम ब्रह्मास्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पतंग को हवा की दिशा में उड़ाओगे तो बहुत दूर तक जाएगी नहीं तो
पतंग को हवा की दिशा में उड़ाओगे तो बहुत दूर तक जाएगी नहीं तो
Rj Anand Prajapati
■ एक_और_बरसी...
■ एक_और_बरसी...
*Author प्रणय प्रभात*
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
अवध से राम जाते हैं,
अवध से राम जाते हैं,
अनूप अम्बर
जीवन में भी
जीवन में भी
Dr fauzia Naseem shad
" बच्चा दिल का सच्चा"
Dr Meenu Poonia
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मुझे याद आता है मेरा गांव
मुझे याद आता है मेरा गांव
Adarsh Awasthi
2270.
2270.
Dr.Khedu Bharti
हम उनसे नहीं है भिन्न
हम उनसे नहीं है भिन्न
जगदीश लववंशी
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
चिढ़ है उन्हें
चिढ़ है उन्हें
Shekhar Chandra Mitra
बीमार घर/ (नवगीत)
बीमार घर/ (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कलम की वेदना (गीत)
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
शेखर सिंह
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिंदगी में.....
जिंदगी में.....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
*पशु- पक्षियों की आवाजें*
*पशु- पक्षियों की आवाजें*
Dushyant Kumar
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*भंडारे की पूड़ियॉं, हलवे का मधु स्वाद (कुंडलिया)*
*भंडारे की पूड़ियॉं, हलवे का मधु स्वाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
डी. के. निवातिया
निराशा एक आशा
निराशा एक आशा
डॉ. शिव लहरी
संविधान से, ये देश चलता,
संविधान से, ये देश चलता,
SPK Sachin Lodhi
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
चन्द फ़ितरती दोहे
चन्द फ़ितरती दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल में कुण्ठित होती नारी
दिल में कुण्ठित होती नारी
Pratibha Pandey
पत्थर की अभिलाषा
पत्थर की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
गुरुर ज्यादा करोगे
गुरुर ज्यादा करोगे
Harminder Kaur
Loading...