Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2023 · 2 min read

■ #गीत :-

#जीवन_दर्शन :-
■ जाना पड़ता है आने को।…!!
【प्रणय प्रभात】
निज अश्वों की टापें
गिन कर,
मैं अस्ताचल-गामी दिनकर।
जाता हूँ थकन मिटाने को,
जाना पड़ता है आने को।।

● मन करता है अनुरोध करूं,
अभिलाषा है सुनवाई हो।
जैसे आने पर अगवानी,
वैसी ही भव्य विदाई हो।
मंतव्य यही समझाने का,
प्रस्थान पूर्व समझाना है।
जाने का हो क्यों कर
विषाद?
नव तेजवान हो आना है।
कहने को शेष-अशेष बहुत,
बस समय नहीं बतलाने को।
मैं अस्ताचल-गामी दिनकर,
जाता हूँ थकन मिटाने को।।

● कुछ ने बस अग्नि-पिंड माना,
कुछ ने पौरुष स्वीकार किया।
कुछ ने मेरा जलना देखा,
कुछ ने श्रद्धा से अर्ध्य दिया।
जिसने भी मन से दिया मान,
अंतरमन से है अभिनंदन।
मैं चिर-कृतज्ञ करबद्ध खड़ा,
आभार सभी का ले वंदन।
जो आज रहा उपलब्ध दिया,
अब पास नहीं दे पाने को।
मैं अस्ताचल-गामी दिनकर,
जाता हूँ थकन मिटाने को।।

● अस्तित्व सार्थक है तब ही,
संतोष रहे कुछ देने का।
जब यहीं छोड़ के जाना है,
औचित्य भला क्या लेने का?
मैं धन्य हुआ कृतकृत्य हुआ,
जो जगती को कुछ दे पाया।
जो छूटा वो सब धूल सदृश,
वो शिरोधार्य जो कुछ पाया।
ना अंत:स में कुछ संचय को,
ना मानस में बिसराने को।
मैं अस्ताचल-गामी दिनकर,
जाता हूँ थकन मिटाने को।।
जाना पड़ता है आने को।।

#आत्मकथ्य
अस्ताचल-गामी सूर्य को अर्ध्य देने का महापर्व और जीवन की साँझ की अनुभूति के बीच का साम्य उद्घोषित करती एक आध्यात्मिक गीत-रचना। उनके लिए जिन्हें जीकन दर्शन व ईश्वरीय विधान में तनिक भी श्रद्धा व अभिरुचि है। गीत का एक प्रयास घोर निराशा के बीच निढाल तन और मन के लिए आशा की एक किरण की उत्साहपूर्ण खोज भी है। शायद, आभास कर सकें आप भी। विशेष रूप से वे सब, जो चंद दिनों बाद अस्तांचल की ओर उन्मुख भगवान भास्कर की अर्चना का महापर्व मनाने जा रहे हैं।

■प्रणय प्रभात■
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक सपना
एक सपना
Punam Pande
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
2886.*पूर्णिका*
2886.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-437💐
💐प्रेम कौतुक-437💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"बताया नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
कवि रमेशराज
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
गुरु आसाराम बापू
गुरु आसाराम बापू
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आटा
आटा
संजय कुमार संजू
चाहे तुम
चाहे तुम
Shweta Soni
स्वयं को स्वयं पर
स्वयं को स्वयं पर
Dr fauzia Naseem shad
सुहागरात की परीक्षा
सुहागरात की परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
😊आज का दोहा😊
😊आज का दोहा😊
*Author प्रणय प्रभात*
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
अभिनय चरित्रम्
अभिनय चरित्रम्
मनोज कर्ण
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
*याद है  हमको हमारा  जमाना*
*याद है हमको हमारा जमाना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
मरने से पहले ख्वाहिश जो पूछे कोई
मरने से पहले ख्वाहिश जो पूछे कोई
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
అమ్మా దుర్గా
అమ్మా దుర్గా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
क्षितिज
क्षितिज
Dhriti Mishra
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
शीर्षक:जय जय महाकाल
शीर्षक:जय जय महाकाल
Dr Manju Saini
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
रामजी कर देना उपकार
रामजी कर देना उपकार
Seema gupta,Alwar
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
*प्रिया किस तर्क से*
*प्रिया किस तर्क से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेल
मेल
Lalit Singh thakur
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
Loading...