Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2023 · 1 min read

■ कविता / स्वयं पर…

✍ #कविता
■ जैसा हूँ वैसा दिखता हूँ…..
【प्रणय प्रभात】
“पक्षपात की आस करो मत।
चिंतन का उपहास करो मत।।
मिथ्या नहीं प्रशंसा होगी।
व्यर्थ नहीं अनुशंसा होगी।।
स्वागत, वंदन, मान न होगा।
क़द, पद का यशगान न होगा।।
नहीं कोई विच्छेदन होगा।
अनुनय, विनय निवेदन होगा।।
दावा नहीं, न खंडन होगा।
तनिक न महिमा मंडन होगा।।
पढ़ना चाहो जो मनभाता।
हे जगती के भाग्य विधाता!
कोई और किताब उठाओ।।
मैं जगभाता कब लिखता हूँ?”
👇(02)
“शब्दों की, भावों की ढेरी।
मेरी सोच, क़लम भी मेरी।।
रात, दोपहर, सांझ, सवेरे।
जड़-चैतन्य सभी हैं मेरे।।
शब्दब्रह्म का मैं साधक हूँ।
शब्दनाद का आराधक हूँ।।
मुझ पर नहीं किसी का पहरा।
मनमौजी, यायावर ठहरा।।
मैं कब मनुहारों का आदी?
बात करूंगा सीधी-सादी।।
जो पसंद आते हैं तुझ को।
स्वांग सुहाते कब हैं मुझको।।
अंदर से ले कर बाहर तक।
वैसा हूँ जैसा दिखता हूँ।।
मैं जगभाता कब लिखता हूँ??”

Language: Hindi
1 Like · 247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"फूल"
Dr. Kishan tandon kranti
*जीवन का आनन्द*
*जीवन का आनन्द*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
Vindhya Prakash Mishra
नेपालीको गर्व(Pride of Nepal)
नेपालीको गर्व(Pride of Nepal)
Sidhartha Mishra
.........,
.........,
शेखर सिंह
फादर्स डे ( Father's Day )
फादर्स डे ( Father's Day )
Atul "Krishn"
मौत से किसकी यारी
मौत से किसकी यारी
Satish Srijan
*जिसको सोचा कभी नहीं था, ऐसा भी हो जाता है 【हिंदी गजल/गीतिका
*जिसको सोचा कभी नहीं था, ऐसा भी हो जाता है 【हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
लला गृह की ओर चले, आयी सुहानी भोर।
लला गृह की ओर चले, आयी सुहानी भोर।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अभागा
अभागा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2392.पूर्णिका
2392.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सुनता जा शरमाता जा - शिवकुमार बिलगरामी
सुनता जा शरमाता जा - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
Smriti Singh
बेरोजगार लड़के
बेरोजगार लड़के
पूर्वार्थ
कलेजा फटता भी है
कलेजा फटता भी है
Paras Nath Jha
तुझे पाने की तलाश में...!
तुझे पाने की तलाश में...!
singh kunwar sarvendra vikram
*** अंकुर और अंकुरित मन.....!!! ***
*** अंकुर और अंकुरित मन.....!!! ***
VEDANTA PATEL
बिना मेहनत के कैसे मुश्किल का तुम हल निकालोगे
बिना मेहनत के कैसे मुश्किल का तुम हल निकालोगे
कवि दीपक बवेजा
जय जय जगदम्बे
जय जय जगदम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बंधे धागे प्रेम के तो
बंधे धागे प्रेम के तो
shabina. Naaz
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
#गुस्ताख़ी_माफ़
#गुस्ताख़ी_माफ़
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
अनिल कुमार
क्या मेरा
क्या मेरा
Dr fauzia Naseem shad
🍁मंच🍁
🍁मंच🍁
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
दर्द  जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
दर्द जख्म कराह सब कुछ तो हैं मुझ में
Ashwini sharma
Loading...