Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

■ एहसास…

■ अक़्सर…
ज़िंदगी एक न एक दिन सबको उस मोड़ पर ला कर खड़ा करती है, जहां सब कुछ अजीबो-ग़रीब सा लगता है। करता सब कुछ बस वक़्त है और इल्ज़ाम आता है बेचारी मुहब्बत के सर।।
【प्रणय प्रभात】

1 Like · 208 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
Surinder blackpen
स्त्री मन
स्त्री मन
Vibha Jain
तुम जब भी जमीन पर बैठो तो लोग उसे तुम्हारी औक़ात नहीं बल्कि
तुम जब भी जमीन पर बैठो तो लोग उसे तुम्हारी औक़ात नहीं बल्कि
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहुत अहमियत होती है लोगों की
बहुत अहमियत होती है लोगों की
शिव प्रताप लोधी
*बुढ़ापे का असर है यह, बिना जो बात अड़ते हो 【 हिंदी गजल/गीतिक
*बुढ़ापे का असर है यह, बिना जो बात अड़ते हो 【 हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
#स्पष्टीकरण-
#स्पष्टीकरण-
*प्रणय प्रभात*
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
चलती है जिंदगी
चलती है जिंदगी
डॉ. शिव लहरी
बाल कविता : रेल
बाल कविता : रेल
Rajesh Kumar Arjun
"कथनी-करनी"
Dr. Kishan tandon kranti
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
बस चार ही है कंधे
बस चार ही है कंधे
Rituraj shivem verma
तुझे देंगे धरती मां बलिदान अपना
तुझे देंगे धरती मां बलिदान अपना
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
जिस दिन आप कैसी मृत्यु हो तय कर लेते है उसी दिन आपका जीवन और
जिस दिन आप कैसी मृत्यु हो तय कर लेते है उसी दिन आपका जीवन और
Sanjay ' शून्य'
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ
महसूस कर रही हूँ बेरंग ख़ुद को मैं
महसूस कर रही हूँ बेरंग ख़ुद को मैं
Neelam Sharma
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
Nature ‘there’, Nurture ‘here'( HOMEMAKER)
Nature ‘there’, Nurture ‘here'( HOMEMAKER)
Poonam Matia
पैसा ना जाए साथ तेरे
पैसा ना जाए साथ तेरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राम छोड़ ना कोई हमारे..
राम छोड़ ना कोई हमारे..
Vijay kumar Pandey
मधुर व्यवहार
मधुर व्यवहार
Paras Nath Jha
बेनाम रिश्ते .....
बेनाम रिश्ते .....
sushil sarna
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
Dr Archana Gupta
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
Ritu Verma
2795. *पूर्णिका*
2795. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
आर.एस. 'प्रीतम'
मदद
मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
Loading...