Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

■ एक ही सवाल ■

■ एक ही सवाल ■

चमन को आरज़ू है बस अमन की।
ज़रूरत क्या दमन की, विष-वमन की?

🙅प्रणय प्रभात🙅

1 Like · 151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2895.*पूर्णिका*
2895.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब तो आ जाओ सनम
अब तो आ जाओ सनम
Ram Krishan Rastogi
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Mamta Singh Devaa
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
*जीवन का आधारभूत सच, जाना-पहचाना है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
विचार और विचारधारा
विचार और विचारधारा
Shivkumar Bilagrami
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
ruby kumari
कोई भी
कोई भी
Dr fauzia Naseem shad
"बन्दगी" हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
एक मुट्ठी राख
एक मुट्ठी राख
Shekhar Chandra Mitra
🚩पिता
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
पूर्वार्थ
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
Anand Kumar
Bad in good
Bad in good
Bidyadhar Mantry
केशों से मुक्ता गिरे,
केशों से मुक्ता गिरे,
sushil sarna
सियासत में आकर।
सियासत में आकर।
Taj Mohammad
चश्मा
चश्मा
लक्ष्मी सिंह
हीरा उन्हीं को  समझा  गया
हीरा उन्हीं को समझा गया
गुमनाम 'बाबा'
प्रिंसिपल सर
प्रिंसिपल सर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रंगीन हुए जा रहे हैं
रंगीन हुए जा रहे हैं
हिमांशु Kulshrestha
एतबार
एतबार
Davina Amar Thakral
" रीत "
Dr. Kishan tandon kranti
एक बेवफा का प्यार है आज भी दिल में मेरे
एक बेवफा का प्यार है आज भी दिल में मेरे
VINOD CHAUHAN
थकान...!!
थकान...!!
Ravi Betulwala
बस यूँ ही...
बस यूँ ही...
Neelam Sharma
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
ఇదే నా భారత దేశం.
ఇదే నా భారత దేశం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
मैं खुशियों की शम्मा जलाने चला हूॅं।
मैं खुशियों की शम्मा जलाने चला हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...