Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

■ इकलखोरों के लिए अनमोल उपहार “अकेलापन।”

■ इकलखोरों के लिए अनमोल उपहार “अकेलापन।”

1 Like · 95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उम्रभर
उम्रभर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
साथी है अब वेदना,
साथी है अब वेदना,
sushil sarna
पनघट
पनघट
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
मूल्य वृद्धि
मूल्य वृद्धि
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
मन की आंखें
मन की आंखें
Mahender Singh
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
Mahendra Narayan
मै स्त्री कभी हारी नही
मै स्त्री कभी हारी नही
dr rajmati Surana
I thought you're twist to what I knew about people of modern
I thought you're twist to what I knew about people of modern
Sukoon
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
Santosh Soni
न कल के लिए कोई अफसोस है
न कल के लिए कोई अफसोस है
ruby kumari
2353.पूर्णिका
2353.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भेड़चाल
भेड़चाल
Dr fauzia Naseem shad
*दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए (गीत )*
*दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए (गीत )*
Ravi Prakash
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
Saransh Singh 'Priyam'
मां का लाडला तो हर एक बेटा होता है, पर सासू मां का लाडला होन
मां का लाडला तो हर एक बेटा होता है, पर सासू मां का लाडला होन
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
राम मंदिर
राम मंदिर
Sanjay ' शून्य'
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*प्रणय प्रभात*
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
उल्लाला छंद विधान (चन्द्रमणि छन्द) सउदाहरण
उल्लाला छंद विधान (चन्द्रमणि छन्द) सउदाहरण
Subhash Singhai
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
The_dk_poetry
*ईर्ष्या भरम *
*ईर्ष्या भरम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
डॉ.सीमा अग्रवाल
फिर कभी तुमको बुलाऊं
फिर कभी तुमको बुलाऊं
Shivkumar Bilagrami
स्क्रीनशॉट बटन
स्क्रीनशॉट बटन
Karuna Goswami
प्यारा हिन्दुस्तान
प्यारा हिन्दुस्तान
Dinesh Kumar Gangwar
प्रसाद का पूरा अर्थ
प्रसाद का पूरा अर्थ
Radhakishan R. Mundhra
बीती बिसरी
बीती बिसरी
Dr. Rajeev Jain
Loading...