Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

■ आज का विचार…

■ आज का विचार…
बेहतरी की मंशा के साथ कुछ बदलने का मन बने तो सबसे पहले अपना दृष्टिकोण बदलें। इसके बाद दृष्टि और दृष्य स्वतः बदल जाएंगे।
■प्रणय प्रभात■

1 Like · 427 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रोटी
रोटी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
कवि दीपक बवेजा
उनकी जब ये ज़ेह्न बुराई कर बैठा
उनकी जब ये ज़ेह्न बुराई कर बैठा
Anis Shah
🙅बड़ा सच🙅
🙅बड़ा सच🙅
*प्रणय प्रभात*
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
Manisha Manjari
ग़र हो इजाजत
ग़र हो इजाजत
हिमांशु Kulshrestha
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
जो जिस चीज़ को तरसा है,
जो जिस चीज़ को तरसा है,
Pramila sultan
ये तनहाई
ये तनहाई
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
साल भर पहले
साल भर पहले
ruby kumari
हे राम ।
हे राम ।
Anil Mishra Prahari
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
सप्तपदी
सप्तपदी
Arti Bhadauria
*डॉ मनमोहन शुक्ल की आशीष गजल वर्ष 1984*
*डॉ मनमोहन शुक्ल की आशीष गजल वर्ष 1984*
Ravi Prakash
आए गए महान
आए गए महान
Dr MusafiR BaithA
अपने  में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
अपने में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
DrLakshman Jha Parimal
भोर अगर है जिंदगी,
भोर अगर है जिंदगी,
sushil sarna
मित्रता का बीज
मित्रता का बीज
लक्ष्मी सिंह
23/08.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/08.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*धन्यवाद*
*धन्यवाद*
Shashi kala vyas
जीत से बातचीत
जीत से बातचीत
Sandeep Pande
तू है
तू है
Satish Srijan
*लफ्ज*
*लफ्ज*
Kumar Vikrant
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
विचारों का शून्य होना ही शांत होने का आसान तरीका है
विचारों का शून्य होना ही शांत होने का आसान तरीका है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
पीड़ादायक होता है
पीड़ादायक होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
"पते पर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...