Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

■ आज का मुक्तक…

■ तसव्वुर की तासीर…
जब हम तसव्वुर में होते हैं तो हमारे पास न अल्फ़ाज़ की कमी होती है, न मिसाल की। इसी की मिसाल हैं कैफ़ियत में हुईं यह चार पंक्तियाँ।
【प्रणय प्रभात】

1 Like · 70 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
खता मंजूर नहीं ।
खता मंजूर नहीं ।
Buddha Prakash
सैदखन यी मन उदास रहैय...
सैदखन यी मन उदास रहैय...
Ram Babu Mandal
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैने नहीं बुलाए
मैने नहीं बुलाए
Dr. Meenakshi Sharma
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आका के बूते
आका के बूते
*Author प्रणय प्रभात*
आशा
आशा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
माँ की दुआ इस जगत में सबसे बड़ी शक्ति है।
माँ की दुआ इस जगत में सबसे बड़ी शक्ति है।
लक्ष्मी सिंह
जुगनू
जुगनू
Gurdeep Saggu
कोरे कागज पर...
कोरे कागज पर...
डॉ.सीमा अग्रवाल
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
'अशांत' शेखर
मिमियाने की आवाज
मिमियाने की आवाज
Dr Nisha nandini Bhartiya
रैन बसेरा
रैन बसेरा
Shekhar Chandra Mitra
"ଜୀବନ ସାର୍ଥକ କରିବା ପାଇଁ ସ୍ୱାଭାବିକ ହାର୍ଦିକ ସଂଘର୍ଷ ଅନିବାର୍ଯ।"
Sidhartha Mishra
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
Vishal babu (vishu)
*जरा-सी धूप जाड़ों की (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जरा-सी धूप जाड़ों की (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-381💐
💐प्रेम कौतुक-381💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोशिस करो कि दोगले लोगों से
कोशिस करो कि दोगले लोगों से
Shankar J aanjna
मेरी किस्मत को वो अच्छा मानता है
मेरी किस्मत को वो अच्छा मानता है
कवि दीपक बवेजा
त्याग
त्याग
AMRESH KUMAR VERMA
51-   प्रलय में भी…
51- प्रलय में भी…
Rambali Mishra
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
वर्दी
वर्दी
Satish Srijan
@ !!
@ !! "हिम्मत की डोर" !!•••••®:
Prakhar Shukla
ग़ज़ल - राना लिधौरी
ग़ज़ल - राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चूहा और बिल्ली
चूहा और बिल्ली
Kanchan Khanna
Loading...