Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2023 · 2 min read

■ आज का दोहा…

■ बज़ट/2023
“बजा बज़ट का झुनझुना
उलझ गई है सोच।
साल चुनावी हर तरफ़ सिर्फ़ लोच ही लोच।।

■ बज़ट_2023/24
■ दावों के विरुद्ध, वादों से उलट…
देश का आम बज़ट विसंगति से अछूता नहीं है। प्रावधानों का समूचा ताना-बाना उलझा हुआ है। जो जनमानस की उलझन बढ़ाने वाला है। सरकार खुद अपने आपको चुनावी दवाब से सुलझा पाने में असमर्थ सी दिखाई दी है। एक तरफ 8 लाख तक सालाना आमदनी वालों को आर्थिक कमज़ोर मानना और दूसरी तरफ कर की सीमा 7 लाख तक रखना अपने आप मे विसंगति है। कराधान में नई-पुरानी योजना को लेकर अलग-अलग प्रस्ताव भी भ्रामक है। जो सरकार की मंशा को पारदर्शी नहीं रहने देते। एक तरफ सबके विकास की डुग्गी और दूसरी तरफ 80 करोड़ लोगों के लिए मुफ्त अनाज का प्रावधान ढोल की पोल खोलने वाला है। रोज़गार और उत्पादन की अनदेखी करते बज़ट में वाह-वाही दिलाने वाले अनुत्पादक कार्यक्रमों की बहुलता है। किसान, कर्मचारी और आम आदमी को मंदी व मंहगाई की मार की तुलना में मरहम कम नसीब होता दिख रहा है। शब्दों की बाजीगरी वाले बज़ट के प्रावधानों को तात्काकिक रूप से समझ पाना सरल नहीं। इससे सरकार की नीयत पर सवाल पैदा होते हैं। कथित दूरदर्शिता वाले बज़ट में निकट भविष्य को लेकर कुछ खास नहीं है। कुल मिला कर चुनावी चौसर पर उलझी सरकार का बज़ट आम जनता के दिमाग़ का दही करने वाला है। बेहतर होता यदि प्रावधान सुसंगत व सुस्पष्ट होते। जो सरकार के दावों और वादों में विरोधाभास उत्पन्न नहीं करता। बहरहाल, प्रावधानों का विस्तृत अध्ययन ज़रूरी है। जिनमे सस्ते-मंहगे उत्पादों की सूची का अवलोकन भी अहम है।
★प्रणय प्रभात★
स्वतंत्र समीक्षक

1 Like · 134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिव विनाशक,
शिव विनाशक,
shambhavi Mishra
शिव
शिव
Dr Archana Gupta
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपनी समस्या का
अपनी समस्या का
Dr fauzia Naseem shad
तुम जो हमको छोड़ चले,
तुम जो हमको छोड़ चले,
कृष्णकांत गुर्जर
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
शेखर सिंह
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
दृष्टि
दृष्टि
Ajay Mishra
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
Rj Anand Prajapati
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
कवि रमेशराज
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
कवि दीपक बवेजा
* चांद के उस पार *
* चांद के उस पार *
surenderpal vaidya
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
कार्तिक नितिन शर्मा
*दिन-दूनी निशि चौगुनी, रिश्वत भरी बयार* *(कुंडलिया)*
*दिन-दूनी निशि चौगुनी, रिश्वत भरी बयार* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वफ़ा
वफ़ा
shabina. Naaz
बादल और बरसात
बादल और बरसात
Neeraj Agarwal
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
ख़ान इशरत परवेज़
बहती नदी का करिश्मा देखो,
बहती नदी का करिश्मा देखो,
Buddha Prakash
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
Sukoon
इंडिया में का बा ?
इंडिया में का बा ?
Shekhar Chandra Mitra
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*नियति*
*नियति*
Harminder Kaur
*** अंकुर और अंकुरित मन.....!!! ***
*** अंकुर और अंकुरित मन.....!!! ***
VEDANTA PATEL
"रहस्यमयी"
Dr. Kishan tandon kranti
*प्यार तो होगा*
*प्यार तो होगा*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#गीत
#गीत
*Author प्रणय प्रभात*
परम सत्य
परम सत्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"अमर रहे गणतंत्र" (26 जनवरी 2024 पर विशेष)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
23/88.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/88.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...