Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

■एक_ग़ज़ल_ऐसी_भी…

■ एक_ग़ज़ल_ऐसी_भी… 【प्रणय प्रभात】

■ कुछ तो ख़ूबी होगी प्यारे, भारत की अँगनाई में।
ऊँचे-ऊँचे दबे पड़े हैं, मिट्टी की गहराई में।।

■ मैं बिस्मिल्ला बोल के भाई, रामायण भी पढ़ देता।
काश तुझे दिलचस्पी होती, तुलसी की चौपाई में।।

■ हमने ऐसे-ऐसे मंज़र, देखे हैं दिखलाए हैं।
बीनाई तक शर्मसार है, ख़ुद अपनी बीनाई में।।

■ रहबर वाले चोगे पर ख़ुद, दाग़ लगा के कालिख़ का।
लुत्फ़ ले रहे बूढ़े शातिर, देखो छुपम-छुपाई में।।

■ जो उधेड़ डाले हैं रिश्ते, उनकी कुछ परवाह करो।
दौर कड़ा सब को समझाता, लग जाओ तुरपाई में।।

■ महफ़िल में कहता तो तुमको, लगता इज़्ज़त उतर गई।
यही सोचकर समझाता हूँ, आज तुम्हें तन्हाई में।।

■संपादक/न्यूज़ & व्यूज़■
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
Tulendra Yadav
अपना सफ़र है
अपना सफ़र है
Surinder blackpen
3151.*पूर्णिका*
3151.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
The best time to learn.
The best time to learn.
पूर्वार्थ
.........,
.........,
शेखर सिंह
मैं इस कदर हो गया हूँ पागल,तेरे प्यार में ।
मैं इस कदर हो गया हूँ पागल,तेरे प्यार में ।
Dr. Man Mohan Krishna
*योग (बाल कविता)*
*योग (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कहे महावर हाथ की,
कहे महावर हाथ की,
sushil sarna
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
भाग्य निर्माता
भाग्य निर्माता
Shashi Mahajan
इम्तिहान
इम्तिहान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
Dr fauzia Naseem shad
" मैं "
Dr. Kishan tandon kranti
दिव्य दृष्टि बाधित
दिव्य दृष्टि बाधित
Neeraj Agarwal
I am Yash Mehra
I am Yash Mehra
Yash mehra
वाचाल पौधा।
वाचाल पौधा।
Rj Anand Prajapati
एक दिन उसने यूं ही
एक दिन उसने यूं ही
Rachana
एहसास
एहसास
भरत कुमार सोलंकी
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
Lokesh Sharma
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Inspiring Poem
Inspiring Poem
Saraswati Bajpai
एक श्वान की व्यथा
एक श्वान की व्यथा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुद्दा मंदिर का
मुद्दा मंदिर का
जय लगन कुमार हैप्पी
आखिरी मोहब्बत
आखिरी मोहब्बत
Shivkumar barman
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
गुप्तरत्न
एग्जिट पोल्स वाले एनडीए को पूरी 543 सीटें दे देते, तो आज रुप
एग्जिट पोल्स वाले एनडीए को पूरी 543 सीटें दे देते, तो आज रुप
*प्रणय प्रभात*
शीर्षक – शुष्क जीवन
शीर्षक – शुष्क जीवन
Manju sagar
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फिर हो गया सबेरा,सारी रात खत्म,
फिर हो गया सबेरा,सारी रात खत्म,
Vishal babu (vishu)
Loading...