Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము

కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
కృష్ణా కృష్ణా నీవే మూలము..
ఆదివి నీవు, అనంతము నీవు
శక్తి వి నీవు ముక్తి వి నీవు
శాంతివి నీవు సహనము నీవు
జ్ఞానము నీవు, గమ్యము నీవు
విజయము నీవు అమరము నీవు
శాస్త్రము నీవు, శస్త్రము నీవు
నీవే నీవే సర్వము నీవే
నీదే నీదే సర్వము నీదే
దయచూపుము కృష్ణా మా పై
రక్షింపుము మా మనుజులను
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
కృష్ణా కృష్ణా నీవే మూలము..

రచన
డా. గుండాల విజయ కుమార్

50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फूल और खंजर
फूल और खंजर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मोहब्बत की राहों मे चलना सिखाये कोई।
मोहब्बत की राहों मे चलना सिखाये कोई।
Rajendra Kushwaha
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ
उधेड़बुन
उधेड़बुन
मनोज कर्ण
कर्म कांड से बचते बचाते.
कर्म कांड से बचते बचाते.
Mahender Singh
मैं जब भी लड़ नहीं पाई हूँ इस दुनिया के तोहमत से
मैं जब भी लड़ नहीं पाई हूँ इस दुनिया के तोहमत से
Shweta Soni
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
शेखर सिंह
आ जाओ घर साजना
आ जाओ घर साजना
लक्ष्मी सिंह
प्रोटोकॉल
प्रोटोकॉल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो इबादत
वो इबादत
Dr fauzia Naseem shad
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
हरवंश हृदय
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
VINOD CHAUHAN
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
Maroof aalam
अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
ताजा समाचार है?
ताजा समाचार है?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Sakshi Tripathi
"अर्द्धनारीश्वर"
Dr. Kishan tandon kranti
चलो आज खुद को आजमाते हैं
चलो आज खुद को आजमाते हैं
कवि दीपक बवेजा
बीती एक और होली, व्हिस्की ब्रैंडी रम वोदका रंग ख़ूब चढे़--
बीती एक और होली, व्हिस्की ब्रैंडी रम वोदका रंग ख़ूब चढे़--
Shreedhar
यह तो अब तुम ही जानो
यह तो अब तुम ही जानो
gurudeenverma198
शीर्षक – वह दूब सी
शीर्षक – वह दूब सी
Manju sagar
Remeber if someone truly value you  they will always carve o
Remeber if someone truly value you they will always carve o
पूर्वार्थ
सूरज
सूरज
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
*हमारे देवता जितने हैं, सारे शस्त्रधारी हैं (हिंदी गजल)*
*हमारे देवता जितने हैं, सारे शस्त्रधारी हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
2661.*पूर्णिका*
2661.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
बदलता साल
बदलता साल
डॉ. शिव लहरी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Loading...