Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2024 · 1 min read

மழையின் சத்தத்தில்

மழையின் சத்தத்தில்
சத்தமிட்டு நடனம் ஆடுகிறது
பச்சைத்தவளை

– ஓட்டேரி செல்வ குமார்

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंधेरा छाया
अंधेरा छाया
Neeraj Mishra " नीर "
हिंदी भारत की पहचान
हिंदी भारत की पहचान
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"मित्रता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
राम
राम
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
समय न मिलना यें तो बस एक बहाना है
समय न मिलना यें तो बस एक बहाना है
Keshav kishor Kumar
कोरोना महामारी
कोरोना महामारी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
#हिंदी_ग़ज़ल
#हिंदी_ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
"" *मौन अधर* ""
सुनीलानंद महंत
भूरा और कालू
भूरा और कालू
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"हूक"
Dr. Kishan tandon kranti
भैया  के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
भैया के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पिया मिलन की आस
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
Kuldeep mishra (KD)
!! मन रखिये !!
!! मन रखिये !!
Chunnu Lal Gupta
लक्ष्य
लक्ष्य
लक्ष्मी सिंह
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
Harminder Kaur
आज की नारी
आज की नारी
Shriyansh Gupta
रोम रोम है पुलकित मन
रोम रोम है पुलकित मन
sudhir kumar
कुछ औरतें खा जाती हैं, दूसरी औरतों के अस्तित्व । उनके सपने,
कुछ औरतें खा जाती हैं, दूसरी औरतों के अस्तित्व । उनके सपने,
पूर्वार्थ
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
दिल के इस दर्द को तुझसे कैसे वया करु मैं खुदा ।
दिल के इस दर्द को तुझसे कैसे वया करु मैं खुदा ।
Phool gufran
यादगार बनाएं
यादगार बनाएं
Dr fauzia Naseem shad
गर्दिश में सितारा
गर्दिश में सितारा
Shekhar Chandra Mitra
खो गया सपने में कोई,
खो गया सपने में कोई,
Mohan Pandey
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
Dr Tabassum Jahan
Loading...