Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2023 · 1 min read

ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ

ਹਕੀਕਤ ਜਾਣਦੇ ਹਾਂ,ਪਰ ਕਦੇ ਬਿਆਨ ਨਹੀਂ ਕਰਦੇ
ਸਭ ਜ਼ਾਹਿਰ ਹੈ ਮੇਰੇ ਤੇ,ਪਰ ਧਿਆਨ ਨਹੀਂ ਕਰਦੇ।

ਕੌਣ ਕਿੰਨੇ ਦਰਦ ਸਹਿ ਕੇ , ਚੁਪਚਾਪ ਮਰ ਗਿਆ
ਬਿਆਨ ਇਹੋ ਜਿਹੇ ਕਿੱਸੇ ,ਖਾਲੀ ਮਕਾਨ ਨਹੀਂ ਕਰਦੇ।

ਤੂੰ ਕਿਉਂ ਵਾਰ ਵਾਰ ,ਕਰ ਰਿਹਾ ਏਂ ਸ਼ੁਕਰੀਆ
ਕਹਿ ਤੇ ਰਹੇ ਹਾਂ, ਐਵੇਂ ਅਸੀਂ ਅਹਿਸਾਨ ਨਹੀਂ ਕਰਦੇ।

ਬਹੁਤ ਡੂੰਘੇ ਦਫ਼ਨ ਕੀਤੇ ,ਹੋਏ ਨੇ ਕੁਝ ਮੈਂ ਰਾਜ
ਇਸੇ ਲਈ ਕਿਸੇ ਨੂੰ ਵੀ ਰਗ ਏ ਜਾਨ ਨਹੀਂ ਕਰਦੇ।

ਸਿਰਫ ਇੱਕ ਤੂੰ ਹੀ ਵੱਸਿਆ ਨੇ ਦਿਲ ਮੇਰੇ ਵਿਚ
ਇਸੇ ਲਈ ਕਿਸੇ ਹੋਰ ਨੂੰ ,ਦਿਲ ਦਾ ਮਹਿਮਾਨ ਨਹੀਂ ਕਰਦੇ।

ਸੁਰਿੰਦਰ ਕੌਰ

Language: Punjabi
91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
खता कीजिए
खता कीजिए
surenderpal vaidya
धिक्कार
धिक्कार
Dr. Mulla Adam Ali
#तेवरी-
#तेवरी-
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन की अभिव्यक्ति
जीवन की अभिव्यक्ति
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गरीबी……..
गरीबी……..
Awadhesh Kumar Singh
3182.*पूर्णिका*
3182.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
Neelam Sharma
राम पर हाइकु
राम पर हाइकु
Sandeep Pande
मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी
मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हर तरफ़ रंज है, आलाम है, तन्हाई है
हर तरफ़ रंज है, आलाम है, तन्हाई है
अरशद रसूल बदायूंनी
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
vah kaun hai?
vah kaun hai?
ASHISH KUMAR SINGH
गहरी हो बुनियादी जिसकी
गहरी हो बुनियादी जिसकी
कवि दीपक बवेजा
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
*तुम  हुए ना हमारे*
*तुम हुए ना हमारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
विकास शुक्ल
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
पाया तो तुझे, बूंद सा भी नहीं..
पाया तो तुझे, बूंद सा भी नहीं..
Vishal babu (vishu)
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
दुष्यन्त 'बाबा'
"क्षमायाचना"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ
माँ
The_dk_poetry
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
शेखर सिंह
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
डी. के. निवातिया
*स्वतंत्रता आंदोलन में रामपुर निवासियों की भूमिका*
*स्वतंत्रता आंदोलन में रामपुर निवासियों की भूमिका*
Ravi Prakash
शुरुआत
शुरुआत
Er. Sanjay Shrivastava
***
*** " मन मेरा क्यों उदास है....? " ***
VEDANTA PATEL
Jay shri ram
Jay shri ram
Saifganj_shorts_me
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...