Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2023 · 1 min read

ਸਤਾਇਆ ਹੈ ਲੋਕਾਂ ਨੇ

ਸਤਾਇਆ ਹੈ ਕੁਝ ਲੋਕਾਂ ਨੇ,ਇਸ ਕਦਰ ਮੈਨੂੰ।
ਖੁੱਲ ਕੇ ਹੱਸਣ ਦਾ ਆ ਗਿਆ ਏ ਹੁਨਰ ਮੈਨੂੰ।

ਕੁਝ ਮਿਲੇ,ਕੁਝ ਵਿਛੜੇ,ਤੇ ਕੁਝ ਯਾਦਾਂ ਦੇ ਗਏ
ਨਵੇਂ ਕਈ ਤਜਰਬੇ ਦੇ ਗਿਆ,ਇਹ ਸਫ਼ਰ ਮੈਨੂੰ।

ਜਿਹਨਾਂ ਹਮਸਾਇਆਂ ਤੋਂ ਮੈਂ,ਰੱਖੀ ਉਮੀਦ ਸਦਾ
ਲੋੜ ਪੈਣ ਤੇ ਕੋਈ ਨਾ ਆਇਆ ਨਜ਼ਰ ਮੈਨੂੰ।

ਮੇਰੇ ਦਿਲ ਦੀਆਂ ਜੋ ,ਬਿਨ ਦੱਸਿਆਂ ਸਮਝ ਲਵੇ
ਭਰੀ ਦੁਨੀਆਂ ਚ ਮਿਲਿਆ ਨਾ ਉਹ ਬਸ਼ਰ ਮੈਨੂੰ।

ਸਾਰੀ ਦੁਨੀਆਂ ਨੂੰ ਹੈ ਸਿਰਫ ਸਕੂਨ ਦੀ ਤਲਾਸ਼
ਇਹਦੀ ਚਾਹ‌ ਨੇ ਹੀ ਕੀਤਾ ,ਦਰ ਬ ਦਰ ਮੈਨੂੰ।

ਸੁਰਿੰਦਰ ਕੌਰ

Language: Punjabi
174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
जो सच में प्रेम करते हैं,
जो सच में प्रेम करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
हर सफ़र ज़िंदगी नहीं होता
हर सफ़र ज़िंदगी नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
मां जैसा ज्ञान देते
मां जैसा ज्ञान देते
Harminder Kaur
दो दिन
दो दिन
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
Anand Kumar
मुझे अंदाज़ है
मुझे अंदाज़ है
हिमांशु Kulshrestha
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
Manisha Manjari
"अभी" उम्र नहीं है
Rakesh Rastogi
रात निकली चांदनी संग,
रात निकली चांदनी संग,
manjula chauhan
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भूमकाल के महानायक
भूमकाल के महानायक
Dr. Kishan tandon kranti
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
"प्रेम न पथभ्रमित होता है,, न करता है।"
*प्रणय प्रभात*
राख का ढेर।
राख का ढेर।
Taj Mohammad
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
देशभक्ति जनसेवा
देशभक्ति जनसेवा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हज़ारों साल
हज़ारों साल
abhishek rajak
दहेज़ …तेरा कोई अंत नहीं
दहेज़ …तेरा कोई अंत नहीं
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
गुज़रा हुआ वक्त
गुज़रा हुआ वक्त
Surinder blackpen
भरे मन भाव अति पावन....
भरे मन भाव अति पावन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
दो शे'र ( अशआर)
दो शे'र ( अशआर)
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*नव-संसद की बढ़ा रहा है, शोभा शुभ सेंगोल (गीत)*
*नव-संसद की बढ़ा रहा है, शोभा शुभ सेंगोल (गीत)*
Ravi Prakash
मेरे फितरत में ही नहीं है
मेरे फितरत में ही नहीं है
नेताम आर सी
दोहा ग़ज़ल (गीतिका)
दोहा ग़ज़ल (गीतिका)
Subhash Singhai
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
सृष्टि रचेता
सृष्टि रचेता
RAKESH RAKESH
3473🌷 *पूर्णिका* 🌷
3473🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...