Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ

ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
यह मेरे लिए है
बस यही सब है
क्या मुझे लगता है?

196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
सत्य कुमार प्रेमी
दोहे-बच्चे
दोहे-बच्चे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
स्त्री
स्त्री
Dr fauzia Naseem shad
गए थे दिल हल्का करने,
गए थे दिल हल्का करने,
ओसमणी साहू 'ओश'
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Neha
*दिल चाहता है*
*दिल चाहता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
Shekhar Chandra Mitra
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
*वीर सावरकर 【गीत 】*
*वीर सावरकर 【गीत 】*
Ravi Prakash
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
gurudeenverma198
झूठी शान
झूठी शान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐलान कर दिया....
ऐलान कर दिया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Tumhari khahish khuch iss kadar thi ki sajish na samajh paya
Tumhari khahish khuch iss kadar thi ki sajish na samajh paya
Sakshi Tripathi
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
ना जाने क्यों ?
ना जाने क्यों ?
Ramswaroop Dinkar
When conversations occur through quiet eyes,
When conversations occur through quiet eyes,
पूर्वार्थ
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यक्षिणी / MUSAFIR BAITHA
यक्षिणी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
स्वतंत्रता दिवस
स्वतंत्रता दिवस
Dr Archana Gupta
■ अधिकांश राजनेता और अफ़सर।।
■ अधिकांश राजनेता और अफ़सर।।
*Author प्रणय प्रभात*
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
Rj Anand Prajapati
टिक टिक टिक
टिक टिक टिक
Ghanshyam Poddar
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हर हर महादेव की गूंज है।
हर हर महादेव की गूंज है।
Neeraj Agarwal
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
ruby kumari
Loading...