Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2023 · 1 min read

কুয়াশার কাছে শিখেছি

কুয়াশার কাছে শিখেছি
আমি স্পর্শ করা,
তোমার স্বচ্ছ শরীরে আমি
বাষ্পর ন্যায় মিশে আছি,
তুমি নিজেকে
স্পর্শ করেই দেখ।

327 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*शिक्षा-क्षेत्र की अग्रणी व्यक्तित्व शोभा नंदा जी : शत शत नमन*
*शिक्षा-क्षेत्र की अग्रणी व्यक्तित्व शोभा नंदा जी : शत शत नमन*
Ravi Prakash
राम राम सिया राम
राम राम सिया राम
नेताम आर सी
*अगर दूसरे आपके जीवन की सुंदरता को मापते हैं तो उसके मापदंड
*अगर दूसरे आपके जीवन की सुंदरता को मापते हैं तो उसके मापदंड
Seema Verma
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
परोपकारी धर्म
परोपकारी धर्म
Shekhar Chandra Mitra
प्यार की लौ
प्यार की लौ
Surinder blackpen
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
Subhash Singhai
कूल नानी
कूल नानी
Neelam Sharma
मां गंगा ऐसा वर दे
मां गंगा ऐसा वर दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जुदा होते हैं लोग ऐसे भी
जुदा होते हैं लोग ऐसे भी
Dr fauzia Naseem shad
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
लक्ष्मी सिंह
■ शर्मनाक सच्चाई….
■ शर्मनाक सच्चाई….
*Author प्रणय प्रभात*
अंदर का चोर
अंदर का चोर
Shyam Sundar Subramanian
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
Ajad Mandori
💐प्रेम कौतुक-364💐
💐प्रेम कौतुक-364💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिंदी दिवस पर विशेष
हिंदी दिवस पर विशेष
Akash Yadav
SCHOOL..
SCHOOL..
Shubham Pandey (S P)
नजरिया-ए-नील पदम्
नजरिया-ए-नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शुम प्रभात मित्रो !
शुम प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
"खुश रहिए"
Dr. Kishan tandon kranti
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
संतुलित रखो जगदीश
संतुलित रखो जगदीश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
" मैं फिर उन गलियों से गुजरने चली हूँ "
Aarti sirsat
अपना भी एक घर होता,
अपना भी एक घर होता,
Shweta Soni
परिंदा
परिंदा
VINOD CHAUHAN
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
Phool gufran
आप, मैं और एक कप चाय।
आप, मैं और एक कप चाय।
Urmil Suman(श्री)
Loading...