Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

এটি একটি সত্য

এটি একটি সত্য
+++++++++++++++

+ ওটেরি সেলভাকুমার

যা কিছু করা হয়েছে
বুঝতে হবে
অপরিহার্য নয়
আপনি যা বোঝেন
জানা দরকার
অপরিহার্য নয়
আপনার যা বুঝতে এবং জানতে হবে তা এখানে
অনেক কিছু আছে
কিন্তু।।।
তাদের মধ্যে কয়েকজন
কিছু জিনিস যা আমরা বুঝতে পারিনি
আমরা জানতে পারিনি
এটাই তো জীবন।
যে সত্য টি রয়ে গেছে

@Bengali

96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दर्द भी
दर्द भी
Dr fauzia Naseem shad
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
वेतन की चाहत लिए एक श्रमिक।
वेतन की चाहत लिए एक श्रमिक।
Rj Anand Prajapati
Everyone enjoys being acknowledged and appreciated. Sometime
Everyone enjoys being acknowledged and appreciated. Sometime
पूर्वार्थ
माॅ
माॅ
Santosh Shrivastava
"संविधान"
Slok maurya "umang"
बहुत
बहुत
sushil sarna
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
आर.एस. 'प्रीतम'
*मरता लेता जन्म है, प्राणी बारंबार (कुंडलिया)*
*मरता लेता जन्म है, प्राणी बारंबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
3098.*पूर्णिका*
3098.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"परचम"
Dr. Kishan tandon kranti
*दर्द का दरिया  प्यार है*
*दर्द का दरिया प्यार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तेरी पनाह.....!
तेरी पनाह.....!
VEDANTA PATEL
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
Sanjay ' शून्य'
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
manjula chauhan
अनुभूति
अनुभूति
Punam Pande
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
Keshav kishor Kumar
अश्रु से भरी आंँखें
अश्रु से भरी आंँखें
डॉ माधवी मिश्रा 'शुचि'
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
वृक्ष धरा की धरोहर है
वृक्ष धरा की धरोहर है
Neeraj Agarwal
संघर्ष और निर्माण
संघर्ष और निर्माण
नेताम आर सी
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
खेल खेल में छूट न जाए जीवन की ये रेल।
सत्य कुमार प्रेमी
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
Paras Nath Jha
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
Ravi Betulwala
वर्षा रानी⛈️
वर्षा रानी⛈️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
किसी दर्दमंद के घाव पर
किसी दर्दमंद के घाव पर
Satish Srijan
शीर्षक – मन मस्तिष्क का द्वंद
शीर्षक – मन मस्तिष्क का द्वंद
Sonam Puneet Dubey
😊 सियासी शेखचिल्ली😊
😊 सियासी शेखचिल्ली😊
*प्रणय प्रभात*
"ଜୀବନ ସାର୍ଥକ କରିବା ପାଇଁ ସ୍ୱାଭାବିକ ହାର୍ଦିକ ସଂଘର୍ଷ ଅନିବାର୍ଯ।"
Sidhartha Mishra
Loading...