Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

२४३. “आह! ये आहट”

हिन्दी काव्य-रचना संख्या: 243.
“आह! ये आहट”
(वीरवार, 13 दिसम्बर 2007)
———————————–

ईक आहट
बेवक्त
बेवजह
होती है क्यूं बेमौसम।
याद आए
अनजाने यों ही
एतबार कर खाई कसम।।
ये इंतजार लंबा है
तन्हाईयों भरा है
गम की नदियों से सरोबार है।
मगर
ऐसे इंतजार के बाद भी
बहारों का इंतजार है।।
शायद !
वो आहट
बहारों की दस्तक हो
या फिर-
उनके कदमों की आहट
जिनसे
ये बहारों का मौसम बरकरार है।।
पक्षियों में कलरव है
बारिश में शरारत है
और
फल फूल रंगदार है।।

-सुनील सैनी “सीना”
राम नगर, रोहतक रोड़, जीन्द (हरियाणा) -१२६१०२.

1 Like · 241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बिजली कड़कै
बिजली कड़कै
MSW Sunil SainiCENA
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
Dr. Narendra Valmiki
कभी-कभी नींद बेवजह ही गायब होती है और हम वजह तलाश रहे होते ह
कभी-कभी नींद बेवजह ही गायब होती है और हम वजह तलाश रहे होते ह
पूर्वार्थ
पिता
पिता
Dr Manju Saini
*बहुत सस्ते में सौदा हो गया लोगों के वोटों का (हिंदी गजल/ गी
*बहुत सस्ते में सौदा हो गया लोगों के वोटों का (हिंदी गजल/ गी
Ravi Prakash
नन्हे बाल गोपाल के पाच्छे मैया यशोदा दौड़ लगाये.....
नन्हे बाल गोपाल के पाच्छे मैया यशोदा दौड़ लगाये.....
Ram Babu Mandal
नमन मंच
नमन मंच
Neeraj Agarwal
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
Aruna Dogra Sharma
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
मुस्कराहटों के पीछे
मुस्कराहटों के पीछे
Surinder blackpen
बचपन -- फिर से ???
बचपन -- फिर से ???
Manju Singh
मेरी फितरत तो देख
मेरी फितरत तो देख
VINOD CHAUHAN
फाग (बुंदेली गीत)
फाग (बुंदेली गीत)
umesh mehra
चुनावी साल का
चुनावी साल का
*Author प्रणय प्रभात*
" मेरे प्यारे बच्चे "
Dr Meenu Poonia
...,,,,
...,,,,
शेखर सिंह
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
Faiza Tasleem
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
Sanjay ' शून्य'
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
Ankita Patel
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
Lekh Raj Chauhan
सबला
सबला
Rajesh
मन किसी ओर नहीं लगता है
मन किसी ओर नहीं लगता है
Shweta Soni
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
Krishna Kumar ANANT
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ Rãthí
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
"लिख सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...