Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

।। सुविचार ।।

।। सुविचार ।।
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
परिस्थिति बदलना जब मुमकिन ना हो तो मन की स्थिति बदल लीजिए
मन की शान्ति और तनावरहित जीवन के लिए…छोटी-छोटी अड़चनों को नजरअंदाज करना सीखें।
एक दिन सब कुछ अपने आप ठीक हो जाएगा..!!

190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
शाहकार (महान कलाकृति)
शाहकार (महान कलाकृति)
Shekhar Chandra Mitra
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*अशोक कुमार अग्रवाल : स्वच्छता अभियान जिनका मिशन बन गया*
*अशोक कुमार अग्रवाल : स्वच्छता अभियान जिनका मिशन बन गया*
Ravi Prakash
#गजल:-
#गजल:-
*Author प्रणय प्रभात*
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मीठा गान
मीठा गान
rekha mohan
कुछ तो याद होगा
कुछ तो याद होगा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2408.पूर्णिका🌹तुम ना बदलोगे🌹
2408.पूर्णिका🌹तुम ना बदलोगे🌹
Dr.Khedu Bharti
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
हमने तो उड़ान भर ली सूरज को पाने की,
हमने तो उड़ान भर ली सूरज को पाने की,
Vishal babu (vishu)
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
Kanchan Khanna
Pyari dosti
Pyari dosti
Samar babu
2) भीड़
2) भीड़
पूनम झा 'प्रथमा'
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
gurudeenverma198
সেই আপেল
সেই আপেল
Otteri Selvakumar
💐प्रेम कौतुक-429💐
💐प्रेम कौतुक-429💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रे ज़िन्दगी
रे ज़िन्दगी
Jitendra Chhonkar
1. चाय
1. चाय
Rajeev Dutta
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
इन रास्तों को मंजूर था ये सफर मेरा
इन रास्तों को मंजूर था ये सफर मेरा
'अशांत' शेखर
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
रिश्ता ख़ामोशियों का
रिश्ता ख़ामोशियों का
Dr fauzia Naseem shad
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
सजी सारी अवध नगरी , सभी के मन लुभाए हैं
Rita Singh
आवारा परिंदा
आवारा परिंदा
साहित्य गौरव
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
//सुविचार//
//सुविचार//
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Tum ibadat ka mauka to do,
Tum ibadat ka mauka to do,
Sakshi Tripathi
Loading...