Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2023 · 1 min read

।।बचपन के दिन ।।

।।बचपन के दिन ।।
काश वो बचपन के दिन फिर से लौट आते।
हम फिर से छोटे छोटे बच्चे बन जाते ।
इतराते बल खाते हुए लड़ियाते झूमते और गाना गाते।
अपने छोटे भाई बहनों के साथ थोड़ा सा लड़ते झगड़ते हुए बचपन बिताते।
आज हम अपने जीवन के वो दिन याद करते हुए बेहद पछताते ।
ना जाने हम इतने जल्दी बड़े क्यों हो जाते।
बचपन के वो कितने सारे खेल अब अपने बच्चों को भी बतलाते।
अब नही रहा वो खेल खिलाडी अब तो वीडियो गेम में धूम मचाते।
अपना बचपन बीता गया अपने बच्चों के बचपन में ही कमियों को पूरी कर लेते।
जो न कर सके अपने बचपन में वो अपने बच्चों में ही पूरा कर पाते।
बचपन से जो आस लगाए अब पूरी करेगें अपनी बच्चे में ही ढूढ पाते ।
वो बचपन की यादे वो नांना नांनी की कहानियाँ कह पाते।
खेल कूद में समय बिताते अब ना जाने कुछ समय ना दे पाते ।
आ गया ये कैसा जमाना कोई किसी को लेकर किसी को बदल ना पाते ।
गुजरा जमाना बदल कर नयापन दे नही पाते ।
जो जैसा है वैसा ही रहेगा क्योंकि कहीं नही हम सभी सुकून चैन है पाते ।
बचपन के दिन फिर से क्यों लौट कर नही आते ।
आज फिर से वो पुराने साथी और जमाने क्यों लौट कर नही आते ।
बाल दिवस के उपलक्ष्य में ये कविता लिखी गई है।
📝📝 *** शशिकला व्यास ***
# भोपाल मध्यप्रदेश #

1 Like · 152 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
यह तो अब तुम ही जानो
यह तो अब तुम ही जानो
gurudeenverma198
समय यात्रा संभावना -एक विचार
समय यात्रा संभावना -एक विचार
Shyam Sundar Subramanian
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
sushil sarna
*श्रद्धा विश्वास रूपेण**
*श्रद्धा विश्वास रूपेण**"श्रद्धा विश्वास रुपिणौ'"*
Shashi kala vyas
पूरी कर  दी  आस  है, मोदी  की  सरकार
पूरी कर दी आस है, मोदी की सरकार
Anil Mishra Prahari
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
Ranjeet kumar patre
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
manjula chauhan
एक युवक की हत्या से फ़्रांस क्रांति में उलझ गया ,
एक युवक की हत्या से फ़्रांस क्रांति में उलझ गया ,
DrLakshman Jha Parimal
*सच्चे  गोंड और शुभचिंतक लोग...*
*सच्चे गोंड और शुभचिंतक लोग...*
नेताम आर सी
ये जो तेरे बिना भी, तुझसे इश्क़ करने की आदत है।
ये जो तेरे बिना भी, तुझसे इश्क़ करने की आदत है।
Manisha Manjari
#शारदीय_नवरात्रि
#शारदीय_नवरात्रि
*Author प्रणय प्रभात*
दस्तक
दस्तक
Satish Srijan
नवम दिवस सिद्धिधात्री,
नवम दिवस सिद्धिधात्री,
Neelam Sharma
कलरव में कोलाहल क्यों है?
कलरव में कोलाहल क्यों है?
Suryakant Dwivedi
****वो जीवन मिले****
****वो जीवन मिले****
Kavita Chouhan
दर्द अपना संवार
दर्द अपना संवार
Dr fauzia Naseem shad
मातु शारदे करो कल्याण....
मातु शारदे करो कल्याण....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिंदी दिवस - विषय - दवा
हिंदी दिवस - विषय - दवा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ढोंगी बाबा
ढोंगी बाबा
Kanchan Khanna
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
*जीवन का आनन्द*
*जीवन का आनन्द*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
जो लम्हें प्यार से जिया जाए,
जो लम्हें प्यार से जिया जाए,
Buddha Prakash
मेरी हर कविता में सिर्फ तुम्हरा ही जिक्र है,
मेरी हर कविता में सिर्फ तुम्हरा ही जिक्र है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तेरा इश्क जब ख़ुशबू बनकर मेरी रूह में महकता है
तेरा इश्क जब ख़ुशबू बनकर मेरी रूह में महकता है
शेखर सिंह
2842.*पूर्णिका*
2842.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर चेहरा है खूबसूरत
हर चेहरा है खूबसूरत
Surinder blackpen
मां
मां
Sanjay ' शून्य'
Loading...