Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

ज़िन्दगी दुश्वार लेकिन प्यार कर

मुश्किलों को हौसलों से पार कर
ज़िन्दगी दुश्वार लेकिन प्यार कर

सामने होती मसाइल इक नयी
बैठ मत जा गर्दिशों से हार कर

बात दिल में जो दबी कह दे उसे
इश्क़ है उससे अगर इज़हार कर

नफरतों का बीज कोई बो रहा
दोस्तों से यूँ न तू तक़रार कर

ढूंढता दिल चन्द खुशियों की घड़ी
अब ग़मों पर खुद पलट कर वार कर

दूर मंज़िल हैं अभी रस्ता कठिन
ज़िन्दगी की राह को हमवार कर

अपने ख़्वाबों की निगहबानी करो
फायदा क्या ख़्वाहिशों को मार कर

है हमें लड़ना मुसलसल वक़्त से
हर घड़ी हासिल तज़ुर्बा यार कर

-हिमकर श्याम

1 Like · 8 Comments · 362 Views
You may also like:
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
महँगाई
आकाश महेशपुरी
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
बाबू जी
Anoop Sonsi
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
कशमकश
Anamika Singh
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
Loading...