Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 24, 2017 · 1 min read

ज़िंदगी तो है…

ज़िंदगी तो है पर यहाँ साथ में ही ये गम क्यो है ,
हरपल यहाँ खुश,तो आँख उसकी नम क्यों है।

हार जाता है अक्सर यहाँ सच रहेता तन्हा यूँ
जूठ के ही पाँव में इस तरहा संग दम क्यों है।

जिसने भी यूँ कभी जो यूं निभाई ता-उम्र वफ़ा,
और उससे ही रहेता दूर उसका सनम क्यों है।

भूल जाते है अगर वो ही हमसे दूर जा कर,
तो यहाँ गमे -इंतज़ार में ही खड़े हम क्यों है।

सोच तो वो भी कुछ अलग रहा है हम से,
दिल फिर उसी शख्स का हूँआ हमदम क्यों है।

– मनीषा जोबन देसाई

1 Like · 1 Comment · 127 Views
You may also like:
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
मैं पुकारती रही
अनामिका सिंह
जिंदगी का राज
अनामिका सिंह
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बन कर शबनम।
Taj Mohammad
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️टिकमार्क✍️
"अशांत" शेखर
मृत्यु के बाद भी मिर्ज़ा ग़ालिब लोकप्रिय हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ क्या लिखूँ।
अनामिका सिंह
✍️वो क्यूँ जला करे.?✍️
"अशांत" शेखर
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
कोमल एहसास प्यार का....
Dr. Alpa H. Amin
शायद...
Dr. Alpa H. Amin
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
जब हम छोटे बच्चे थे ।
Saraswati Bajpai
स्वार्थ
Vikas Sharma'Shivaaya'
चामर छंद "मुरलीधर छवि"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हंस है सच्चा मोती
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
पैसा बोलता है...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
हवा के झोंको में जुल्फें बिखर जाती हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
यूं रो कर ना विदा करो।
Taj Mohammad
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
✍️मेरा साया छूकर गया✍️
"अशांत" शेखर
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
रिश्तो में मिठास भरते है।
अनामिका सिंह
Loading...